Connect with us

रूह-ब-रूह

देश व समाज को समर्पित ओमप्रकाश रक्षवाल

Published

on

whitemirchi.com
वर्ष 1970 में जन्मे ओमप्रकाश रक्षवाल नहरपार स्थित सेहतपुर स्थित दीक्षा पब्लिक स्कूल के संस्थापक निर्देशक हैं। फाइंडिंग फरीदाबाद ने उनसे अनेक मुद्दों पर बात की जिनमें देश, धर्म, समाज, शिक्षा, सरकार, प्रशासन, सुविधाएं आदि शामिल रहे। स्वयं निवर्तमान निगम पार्षद रक्षवाल ने सभी मुद्दों पर बड़ी बेबाकी और साफगोई के साथ विचार प्रस्तुत किए, जिन्हें हम अपने पाठकों के लिए प्रस्तुत कर रहे हैं-

वह बताते हैं कि उनके पिता चौधरी किशन सहाय सरपंच जी ने वर्ष 1999 के जनवरी में दीक्षा पब्लिक स्कूल की स्थापना की थी। वो बसंत पंचमी का दिन था, जिस दिन उन्होंने कुल 11 बच्चों के साथ यह स्कूल शुरू किया। आज जब वह 93 वर्ष के हो गए हैं तो उनका सपना भी विशाल रूप ले चुका है। पिताजी को शिक्षा के क्षेत्र में शुरू से ही लगाव था। गांव सेहतपुर में उन्होंने सरकारी स्कूल की आधारशिला रखने में बड़ा योगदान किया। इस स्कूल को शुरू करवाने के लिए सबसे पहला कमरा भी उन्होंने ही बनवाकर दिया।

वर्ष 1994 में जब नगर निगम फरीदाबाद का गठन हुआ तो यह क्षेत्र शहरीकृत हो गया और यहां पर हमें लोगों को सुविधा संपन्न बनाने का और दबाव बढ़ गया। लेकिन वह काम करते रहे और हम उनके साथ थे।

हमारे स्कूल को अब जबकि 28 वर्ष हो गए हैं तो हम पीछे सोचकर देखते हैं कि कैसे पहले पांचवीं तक, फिर मिडल और उसके बाद हाई स्कूल और बारहवीं तक मान्यता प्राप्त की। यह कहने में आसान लगता है लेकिन एक एक सीढ़ी चढऩे में लोगों के अथक प्रयास और लगन के साथ साथ अभिभावकों का हमारे ऊपर विश्वास बड़ा किरदार निभाता है। आज स्कूल की इमारत करीब आधा एकड़ में और बच्चों के लिए दो एकड़ में खेल का मैदान बना हुआ है।

रक्षवाल कहते हैं कि शिक्षा के बिना इंसान कुछ भी नहीं है। एक अशिक्षित व्यक्ति घर से निकलते ही ग्लानि से भर जाता है क्योंकि वह जानता है कि उसे हर जगह शिक्षा की कमी से सामना करना पड़ेगा।

वह कहते हैं कि आज समय बड़ी तेजी से बदल रहा है। जिसे हमें मिलकर देखना होगा कि इसमें से कितना हमें स्वीकार करना है और किस बदलाव को हमें नकारना है। वह सामूहिक परिवार में रहते हैं। इसलिए इसके मासने भी समझते हैं, कहते हैं कि एक परिवार से अलग होने का अर्थ ऐसे है जैसे एक पौधे को जड़ों से अलग कर दिया जाए।

अपनी दिनचर्या के बारे में बताया कि वह सुबह पांच बजे उठते हैं और सुबह टहलने के बाद प्रभु का नाम आदि लेकर दिन की शुरुआत होती है। लोग सुबह से ही अपनी समस्याएं लेकर घर पर आने लगते हैं जिनका निराकरण दूर करने में जुट जाते हैं। इसके बाद एक बार माता पिता से मिलने के बाद स्कूल की ओर निकलते हैं।

वह इस इलाके की तरक्कत के बारे में याद करते हैं तो कई भाव चेहरे पर उभरने लगते हैं। कहते हैं कि कभी वक्त था कि जब इस इलाके में यमुना का पानी आ जाता था। जिससे लोगों को बड़ी दिक्कतों का सामना करना पड़ता था। तब लोग महीनों पल्ला में रहते थे। हमारी फसलें डूब जाती थीं, पशुओं का चारा समाप्त हो जाता था। पशुओं की यह हालत देखकर हमें बहुत बुरा लगता था। कई बार छोटे पशु भूख से मर भी जाते थे। वह याद करते हैं कि एक बार यमुना का बड़ा पानी इलाके में घुस आया, तब प्रदेश सरकार में गजराज बहादुर मंत्री थे जिनके साथ पिताजी चौधरी किशन सहाय सरपंच ने बाढ़ और पानी के निराकरण के बारे में लंबी चर्चाएं की, सभी के संयुक्त प्रयास रंग लाए और सरकार ने पल्ला से महावतपुर तक एक बांध मंजूर किया। जिसके बाद यहां बाढ़ की तबाही रुकी और लोगों ने दोगुने उत्साह से खेती शुरू की। बाहर से भी लोग यहां आकर बसने लगे। आज जब बाढ़ के दिनों और आज के दिनों को सोचते हैं तो उनके रौंगटे खड़े हो जाते हैं। वर्ष 1978 में बड़ी बाढ़ आई थी। प्रशासन के अधिकारी यहां पर कश्तियों पर सवार होकर आते थे। हमें ब्रेड मिलते थे जिन्हें खाकर किसी प्रकार जिंदा रहते थे। पल्ला के रहने वाले प्रेम चौहान के घर तक पहुंचे, जहां उनके साथ हमारी दोस्ती हो गई जो आज भी चल रही है। कभी कृष्ण सुदामा की दोस्ती थी लेकिन हमने तो प्रेम की दोस्ती देखी है। दो बच्चों में एक बेटी भी है। रक्षवाल कहते हैं कि बच्चों में लिंगभेद किए बिना समान अवसर दें, बाकी उनकी योग्यता पर छोड़ दें।

रूह-ब-रूह

फिल्मी लगती है लोगों को रोगमुक्त कराने वाले डाक्टर की कहानी

Published

on

whitemirchi.com

फरीदाबाद की ग्रीनफील्ड कॉलोनी में रहने वाले डॉ. बीके चंद्रशेखर की कहानी पूरी फिल्मी लगती है, लेकिन यह एक फौजी के जुनून और परमात्मा के अनुग्रह का ऐसा मिश्रण है| जो आज हजारों अन्य को रोगमुक्ति दिला रहा है। मूल रूप से बिहार के रहने वाले चंद्रशेखर वर्ष 1998 में गोरखपुर एयरबेस में तैनात थे, जब उनको कैंसर ने आ जकड़ा। वर्ष 1999 में वह दिल्ली के आर्मी अस्पताल में कैंसर का ऑपरेशन करवाने के लिए पहुंचे। कैंसर का ऑपरेशन हुआ लेकिन गलत। दूषित खून के कारण उन्हें हेपेटाइटिस सी नामक रोग भी हो गया। दोबारा ऑपरेशन हुआ। आगे के इलाज के लिए उन्हें पूना कमांड हास्पिटल में भेजा गया। इसी दौरान चंद्रशेखर स्टेज 4 ग्रेड 4 लीवर सोराससिस रोग की चपेट में आ गए। मेडिकल साइंस के अनुसार यह बीमारी लाइलाज थी। कीमो के साइड इफेक्ट से प्रभावित हो रहे चंद्रशेखर सहित उनके परिवार को लगता कि जैसे सारी आफत उन्हीं पर आ पड़ी है और अब वह बचेंगे नहीं।

विवादों के बावजूद… अरविंद केजरीवाल

परमात्मा में आस्थावान चंद्रशेखर के एक दोस्त ने पूछा, कहां है तुम्हारा भगवान। इसके बाद वह परमात्मा में आस्था खो बैठे और गतिहीन हो गए। वह बताते हैं कि उन्हें एक चमकता प्रकाश नजर आया, जो उनसे संवाद कर रहा था। उस समय वह तय नहीं कर पा रहे थे कि यह सपना है या सच। प्रकाश कहता है तुम्हें कुछ नहीं होगा, और तुम ईश्वरीय सेवाओं का प्रयोग कर विश्व को प्रबुद्ध बनाओगे। इसके बाद उनका प्रकाश के साथ संवाद कायम हो गया। वह जो बात कहे, उसे वह बात में लिखते और स्वयं पर आजमाते। धीरे धीरे वह सभी रोगों से मुक्त हो गए और जो उनके पास लिखा हुआ था वह एक किताब इनबिसिबल डाक्टर प्रकाशित की, जो बहुत लोकप्रिय हुई। इसके बाद उन्होंने आपका स्वास्थ्य आपके हाथ, इनक्रीज योर मेमोरी नामक किताबें लिखीं और मेमोरी डेवलपमेंट कोर्स विकसित किया। चंद्रशेखर ने यह सब प्रकाश से प्राप्त जानकारी के आधार पर किया। उन्होंने इस प्रकाश को स्प्रिचुअल लाइट इनकॉरपोरियल गॉड फादर अलमाइटी यानि सिग्फा नाम दिया।

इन चीज़ों के सेवन से सर्दियों में रहेंगे हेल्दी

सिग्फा ज्ञान को फैलाने के लिए उन्होंने 2008 में एयरफोर्स की नौकरी छोडक़र सिग्फा सॉल्यूशंस नाम की एनजीओ स्थापित की और इसके अंतर्गत साइको न्यूरोबिक्स नामक कोर्स विकसित किया। इस कोर्स को तमिलनाडू फिजिकल एडुकेशन एंड स्पोट्र्स यूनिवर्सिटी चैन्नै, वर्धमान महावीर ओपन यूनिवर्सिटी राजस्थान, उत्तराखंड यूनिवर्सिटी हल्द्वानी, बैंगकॉक की रैंगसित यूनिवर्सिटी, अमेरिका के शहर फ्लोरिडा स्थित योगा संस्कृतम विश्वविद्यालयों ने बीएससी (साइको न्यूरोबिक्स) और एमएससी (साइको न्यूरोबिक्स) के रूप में मान्यता दी है। अब तक इस कोर्स को हजारों डाक्टर, इंजीनियर व छात्र कर चुके हैं। चंद्रशेखर एक साथ 1864 एमबीए छात्रों को लेक्चर देकर गिन्नीज बुक ऑफ वल्र्ड रिकॉर्ड भी बना चुके हैं। चंद्रशेखर की जीवन की दास्तां किसी फीनिक्स पक्षी के जैसी है जिसके बारे में कहा जाता है कि वह मरने के बाद जलकर भी राख से जी उठता है। उन्होंने अपने ज्ञान के जरिए एक महिला डाक्टर का मल्टीपल माइलोमा कैंसर ठीक किया। चंद्रशेखर कहते हैं कि वह ईश्वरीय ज्ञान एवं कृपा से ठीक हुए हैं, जिसको वह अब दूसरों में बांट रहे हैं। वह आज विश्वविख्यात साइको न्यूरोबिक्स विशेषज्ञ हैं, जो अपनी पत्नी और एक बेटी के  साथ प्रसन्नता से जीवन जी रहे हैं और दूसरों को खुशियां बांट रहे हैं।

क्या आप भी जोड़ों में दर्द और सूजन से परेशान हैं?

 

Continue Reading

रूह-ब-रूह

विवादों के बावजूद… अरविंद केजरीवाल

Published

on

whitemirchi.com

16 अगस्त 1968 में हरियाणा जिले के सिवानी में जन्मे अरविन्द केजरीवाल तात्कालिक भारतीय राजनीति में वह नाम है जो अक्सर किसी न किसी विवाद में उलझे रहते हैं| अरविंद केजरीवाल जाति से वैश्य और पेशे से दिल्ली के मुख्यमंत्री के रूप में कार्यरत हैं| केजरीवाल के पिता का नाम गोविंद राम केजरीवाल तथा माता का नाम गीता देवी है| हरियाणा में जन्में अरविन्द केजरीवाल एक मध्यम वर्गीय परिवार से सम्बंध रखते है इनके पिता जी एक इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियर हैं| केजरीवाल अपने तीन भाई बहनों में सबसे बड़े हैं| इन्होने सन 1994 में सुनीता से शादी की इनके एक बेटा और एक बेटी हैं| इनका अधिकांश बचपन उत्तर भारत के शहरों में गुजरा|

केजरीवाल ने अपनी स्कूली शिक्षा हिसार से पूरी करने के बाद आईआईटी खड़गपुर से स्नातक की डिग्री हासिल की इसके बाद upsc में अपनी सफलता दर्ज की और आईआरएस अधिकारी के रूप में कार्य करने में जुट गए और अफसरी करते हुए राजनीति की गहराई को समझ गए| सामाजिक मुद्दों पर ध्यान देते हुए केजरीवाल ने 2006 में आयकर विभाग के जॉइंट कमिश्नर पद से इस्तीफा दे दिया| इस इस्तीफे के बाद लगातार वे समाजिक मुद्दों से जुड़े रहे इन्होने अन्ना के आंदोलन में भाग लिया और अपनी पार्टी बनाई नवंबर 2012 में आदमी पार्टी की नींव रखी|

2012 में दिल्ली के रामलीला मैदान में समाजसेवी अन्ना हजारे के आंदोलन के दौरान मंच का संचालन करने वाले अरविंद केजरीवाल के विचारों से आम आदमी पार्टी का गठन किया तब केजरीवाल और उनके सहयोगियों ने देश की राजनीति से अलग विचारधारा और साफ-सुथरी राजनीति की बात कही थी| मगर अन्ना को राजनीतिक पार्टी बनाने पर ऐतराज था उनका मानना था कि राजनीति दलदल है जिसमें केवल बेइमानी और भ्रष्टाचार है| मगर अन्ना के इस विरोध के बावजूद अरविंद केजरीवाल और उनके साथियों ने आम आदमी पार्टी का गठन किया| तब अरविंद का साथ देने वालों में शांति भूषण, प्रशांत भूषण, मनीष सिसोदिया, कुमार विश्वास, योगेंद्र यादव, शाजिया इल्मी, किरण बेदी जैसे लोग शामिल थे| मगर वक्त बीतने के साथ उनमें से ज्यादातर अब इस पार्टी के हिस्सा नहीं हैं| वहीं 2015 में मुख्यमंत्री बनने के बाद अरविंद केजरीवाल ने कुछ ऐसे फैसले लिए जिनसे उनमें वैकल्पिक राजनीति की उम्मीद देख रहे लोगों का विश्वास डगमगाने लगा|

सत्ता में आने के बाद केजरीवाल ने मार्च 2015 में सबसे पहले योगेंद्र यादव और प्रशांत भूषण को आम आदमी पार्टी की ‘पॉलिटिकल अफेयर्स कमेटी’ से बाहर कर दिया| योगेंद्र-प्रशांत के निकाले जाने के बाद कुछ लोगों को यह भी लगा कि जैसे दूसरी पार्टियों के नेताओं में अपने शीर्ष नेता की चापलूसी की होड़ रहती है शायद वैसा ही कुछ अरविंद केजरीवाल अपनी पार्टी में भी चाहते हैं| अरविन्द केजरीवाल ने जब से राजनीति में कदम रखा है तब से ही विवाद के घेरे में आते रहे हैं| इनके ऊपर कई नेताओं के कई धाराओं के मुकदमें भी दर्ज है|

अरविन्द केजरीवाल ने जब आम आदमी पार्टी बनाई तब इनके साथी प्रशांत भूषण और योगेंद्र यादव ने भी इनका साथ दिया लेकिन कुछ समय पश्चात इनके बीच रिश्ते ख़राब होते चले गए और कई बार तो अरविन्द केजरीवाल इन्हें गलियां देते नज़र आए| केजरीवाल पर ये आरोप भी है की उन्होंने कई लोगों को अपनी पार्टी से टिकट दी है जिनके पास फ़र्ज़ी डिग्रियां है और कई बार उन्ही के पार्टी के लोग उन पर आरोप लगते हैं की केजरीवाल अपनी पार्टी को लोकतान्त्रिक तरीके के बिना अपनी मर्ज़ी से चलते हैं|

वहीं दिल्ली के मुख्यमत्री होने बावजूद दिल्ली  पुलिस और केजरीवाल के बीच तनाव बना रहता इन्होने अपने एक इंटरव्यू में दिल्ली पुलिस को ठुल्ला भी कहा था| इन सबके अलावा अगर राजनीतिक दांव पेंच की बात करें तो सत्ता में आने के बाद से केजरीवाल इसमें भी नौसिखए से नजर आते हैं उदहारण के तोर पर सर्जिकल स्ट्राइक के मुद्दे पर दिया गया उनका बयान हो या एमसीडी चुनाव में ईवीएम मशीनों से छेड़छाड़ को अपनी हार की वजह बताना हो ऐसे ज्यादातर मौकों पर उनका दांव उल्टा ही पड़ा है|

Continue Reading

रूह-ब-रूह

संतों के स्तर पर कोई भेद नहीं है

Published

on

02fbd-bhavna-ramanujam

संत भावना रामानुजम

फरीदाबाद। वृंदावन स्थित यशोदानंदन धाम से फरीदाबाद में कथा करने पहुंची भावना रामानुजम से भेंट में कहीं भी ऐसा नहीं लगा कि वह किसी एक संप्रदाय की आचार्य हैं। कहीं कोई कट्टरता का भाव नहीं बल्कि सभी के लिए एक समभाव दिखा, जो आजकल कम ही संतों में दिखता है। कहती हैं कि संतों के स्तर पर कोई भेद नहीं है, भक्त आपस में इतनी दूरी क्यों रखते हैं, समझ से परे है।

संत भावना रामानुजम ने वर्षों तक चंडीगढ़ पंचकूला में रहते हुए छात्रों को प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारियां करवाईं। इसी दौरान उन्हें मध्व गौडीय संप्रदाय के महान विद्वान अतुल कृष्ण जी का सान्निध्य प्राप्त हुआ। जिसने उनके जीवन को अध्यात्म मार्ग पर मोड़ दिया।
वह राम कथा, भागवत कथा, शिव कथा के साथ साथ विभिन्न चैप्टर पर भी प्रवचन कहती हैं। दक्षिण के रामानुज संप्रदाय में दीक्षित और बाद में संप्रदाय के अनंतश्री विभूषित जगदगुरु रामानुजाचार्य स्वामी चतुर्भुज दास जी महाराज के साथ दांपत्य जीवन में आईं भावना रामानुजम के अंदर धार्मिक अथवा सांप्रदायिक कट्टरता के स्थान पर सभी के लिए समभाव ही नजर आता है।
रामानुज संप्रदाय में शिव की पूजा नहीं होती है के प्रश्र पर कहती हैं, जब व्यक्ति भक्तिपथ में प्रवेश कर जाता है तो उसे कोई छोटा बड़ा, अपना पराया नजर नहीं आता है। ब्रह्म दो नहीं हो सकते हैं तो हम दो कैसे हो सकते हैं। भगवान राम जब रावण का वध करने जाते हैं तो पहले रामेश्वरम में शिवलिंग की स्थापना अर्चना करते हैं, इसी प्रकार जब कृष्ण कंस का वध करने निकलते हैं तो वृंदावन में गोपेश्वर महादेव की स्थापना करते हैं।
हालांकि भावना रामानुजम कहती हैं कि कुछ तो बदलाव संतों में भी आया है। पहले उनके लिए अध्यात्म निष्ठा का विषय था अब प्रतिष्ठा का हो गया है, पहले भाव प्रधान था अब प्रभाव प्रधान हो गया है, पहले संत फकीरी में रहता था अब अमीरी में रहता है। लेकिन यह छुपा नहीं रह सकता है। भक्तों को सब दिख जाता है। आचरण ही व्यक्ति का आइना है। संत के पास जो होगा, वही भक्त को देगा। जो होगा ही नहीं, वह क्या देगा।
Continue Reading
खास खबर3 days ago

भाजपा की आंधी में जीते कृष्णपाल गुर्जर

सिटी न्यूज़3 days ago

पुण्यतिथि पर सैकड़ों ने कराई स्वास्थ्य की जांच 

सिटी न्यूज़7 days ago

नगर निगम के कर्मचारियों पर घालमेल का आरोप, सीएम विंडो पर लगाई गुहार 

खास खबर1 week ago

खट्टर सरकार में छात्राओं का हो रहा है यौन शोषण: कृष्ण अत्री

सिटी न्यूज़2 weeks ago

सिटी न्यूज़2 weeks ago

फरीदाबाद के नए उपायुक्त ने संभाला कार्यभार

खास खबर2 weeks ago

पृथला विधानसभा के असावटी गांव के बूथ नंबर 88 पर होगा दोबारा मतदान

बचल खुचल2 weeks ago

शोभायात्रा में भक्त और भगवान साथ साथ हुए शामिल

Uncategorized3 weeks ago

ममता भड़ाना ने चुटकियों में मनाया भूख हड़ताल पर बैठी महिलाओं को 

सिटी न्यूज़3 weeks ago

भड़ाना के पक्ष में मैदान में उतरे कांग्रेसी दिखे जोश में

सिटी न्यूज़3 weeks ago

भड़ाना के पक्ष में मैदान में उतरे कांग्रेसी दिखे जोश में

सिटी न्यूज़3 weeks ago

सीबीएसई 10 बोर्ड रिजल्ट मे  कुंदन ग्रीन वैली की दिव्या व् पूनम रही प्रथम

बचल खुचल3 weeks ago

वोट डालने वालों को 7 सेड्स यूनिसेक्स सैलून में भारी छूट 

सिटी न्यूज़3 weeks ago

उद्योग संगठन जून में आयोजित करेगा ऑल हरियाणा मीट

सिटी न्यूज़3 weeks ago

मैं हूं 25 वर्ष से फरीदाबाद का चौकीदार, भाजपा का चौकीदार भ्रष्टाचार में लिप्त : अवतार भड़ाना

वाह ज़िन्दगी3 weeks ago

भगवान लक्ष्मीनाराण के विवाहोतसव में शामिल हुए भक्त

सिटी न्यूज़7 days ago

नगर निगम के कर्मचारियों पर घालमेल का आरोप, सीएम विंडो पर लगाई गुहार 

Uncategorized3 weeks ago

ममता भड़ाना ने चुटकियों में मनाया भूख हड़ताल पर बैठी महिलाओं को 

सिटी न्यूज़3 weeks ago

पृथला क्षेत्र के गांवों में चौपालों पर न्याय कार्यक्रम के तहत हुई चर्चा 

सिटी न्यूज़3 weeks ago

जीवा पब्लिक स्कूल ने फिर दिया उत्कृष्ट परिणाम

लोकप्रिय