Connect with us

खास खबर

घोर लापरवाही : टूटा बाया हाथ और दायें हाथ में कर दिया प्लास्टर

Published

on

उत्तर बिहार जिले के वसुवारा थाना क्षेत्र के  अंतर्गत आने वाले सबसे बड़े अस्पताल दरभंगा मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल की घोर लापरवाही का मामला सामने आया है। जहां अस्पताल में गोदाइपट्टी गांव निवासी शाहजहां के पुत्र फैजान का इलाज के दौरान टूटे बाएं हाथ की वजाए दायें हाथ का प्लास्टर कर दिया।

जानकारी के अनुसार, उत्तर बिहार के सबसे बड़े अस्पताल दरभंगा मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल (डीएमसीएच) में दरभंगा जिले के वसुवारा थाना क्षेत्र के गोदाइपट्टी गांव निवासी शाहजहां के पुत्र फैजान सोमवार को हाथ टूटने पर इलाज के लिए आया. फैजान का बायां हाथ टूट गया था। इलाज के लिए जब वह डीएमसीएच के ऑर्थो विभाग में आया तो, यहां डॉक्टरों ने फैजान के बायें हाथ के बदले दायें हाथ में प्लास्टर कर दिया.

परिजनों ने जब इसकी शिकायत करनी चाही, तो उन्हें धक्का देकर बाहर निकाल दिया गया. परिजनों का आरोप है कि दवा एवं रुई अस्पताल में रहते हुए भी बाहर से खरीद कर लाने को कहा गया. परिजनों ने मंगलवार को इसकी शिकायत डीएमसीएच अधीक्षक से की. अधीक्षक डॉ आरआर प्रसाद ने मामले को गंभीरता से लेते हुए आर्थो विभागाध्यक्ष डॉ लाल जी चौधरी से स्पष्टीकरण की मांग की है. साथ ही कहा है कि दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई की जायेगी.

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

खास खबर

बतौर अध्यात्मिक वक्ता सम्मानित हुए पत्रकार शकुन रघुवंशी

Published

on

फरीदाबाद। सेक्टर 12 स्थित एचएसवीपी कन्वेंशन सेंटर में आयोजित गीता जयंती महोत्सव के समापन अवसर पर श्री सिद्धदाता आश्रम को दो-दो सम्मान प्राप्त हुए। यह सम्मान केंद्रीय राज्यमंत्री श्री कृष्णपाल गुर्जर ने प्रदान किए।

इनमें एक सम्मान पत्रकार शकुन रघुवंशी को बतौर अध्यात्मिक वक्ता प्राप्त हुआ| शकुन रघुवंशी श्री सिद्धदाता आश्रम के गत 18 वर्षों से मानद संपादक भी हैं|वह बतौर पत्रकार गत 22 वर्षों से प्रिंट मीडिया में सक्रिय हैं और वर्तमान में आज समाज अखबार में फरीदाबाद ब्यूरो प्रभारी के रूप में कार्यरत हैं। इससे पहले वह दैनिक जागरण, नई दुनिया, नवभारत टाइम्स, पब्लिक एशिया, सान्ध्य महालक्ष्मी, इन दिनों आदि समाचार पत्रों में अपनी सेवाएं दे चुके हैं।

आज गीता जयंती महोत्सव के समापन अवसर पर श्री सिद्धदाता आश्रम के स्टॉल पर पहुंचे केंद्रीय राज्यमंत्री श्री कृष्णपाल गुर्जर का मंत्रोच्चारण के साथ स्वागत किया गया। आश्रम में पढऩे वाले वेदपाठी छात्रों के सस्वर उच्चारण से मंत्रीजी काफी प्रसन्न दिखे। कार्यक्रम समापन अवसर पर केंद्रीय राज्यमंत्री ने श्री सिद्धदाता आश्रम की भागीदारी को सम्मानित किया। इस अवसर पर उन्होंने आश्रम को विभिन्न गतिविधियों में सहभागिता और सेमिनार में वक्ताओं की श्रेणी में दो अवार्ड दिए। उनसे यह अवार्ड आश्रम के मानद संपादक शकुन रघुवंशी ने प्राप्त किए। कार्यक्रम समापन कार्यक्रम में भी आश्रम के वेदपाठी छात्रों ने सस्वर 18 श्लोकों में गीता की मुख्य शिक्षाओं को प्रस्तुत कर सभी को मोह लिया।

Continue Reading

खास खबर

मुस्लिम द्वारा हिन्दू आचरण को कुफ्र मानता है इस्लाम !

Published

on

Demand for immediate cancellation of appointment of Dr. Feroz Khan

फरीदाबाद। जिस प्रकार अलीगढ मुस्लिम विश्‍वविद्यालय में ‘सुन्नी धर्मशास्त्र’ विभाग में शिया व्यक्ती की नियुक्ति नहीं हो सकती और ‘शिया धर्मशास्त्र’ विभाग में सुन्नी व्यक्ति नियुक्त नहीं हो सकती । तो हिन्दू विश्‍वविद्यालय में हिंदु तत्त्वज्ञान सिखाने के लिए मुसलमान प्राध्यापक की नियुक्ती कैसे की जा सकती है ? ‘काशी हिन्दू विश्‍वविद्यालय’ यह हिंदुआेंको वैदिक शिक्षा देनेवाला विद्यापीठ है । इसलिए इस विश्‍वविद्यालय में संस्कृत विद्या और धार्मिक विज्ञान विभाग में की गई डॉफिरोज खान की नियुक्ति तत्काल निरस्त की जाए तथा डॉखान की इस विभाग में नियमबाह्य नियुक्ति करनेवाले दोषीआें पर कारवाई होऐसी मांग हेतु हिन्दू जनजागृति समिति ने की है । समिती के सुरेश मुंजाल  ने यह मांग की है। काशी हिन्दू विश्‍वविद्यालय के धर्मशास्त्र विभाग के भवन पर एक शिलालेख आरंभ से है । उस पर लिखा है किकर्मकांड केवल हिन्दू शिक्षक सिखाएंगे । एक मुसलमान की नियुक्ती से पहले विश्‍वविद्यालय के इस नियमावली को प्रशासन ने ध्यान क्यो नही दिया खान की नियुक्ति जिस पद की गयी है वह संस्कृत शिक्षक का नहींअपितु हिन्दू धर्मशास्त्र (थिऑलॉजीसिखानेवाले आचार्य का है । इसमें धर्मशास्त्र के सिद्धांत और कर्मकांड का गहन ज्ञान तथा सर्व कर्मकांड स्वयं आचरण में लाना भी आवश्यक है । इस्लाम के अनुसार हिंदु कर्मकांड का आचरण करना ‘कुफ्र’ (निषेधार्हमाना गया हैअर्थात् डॉफिरोज खान वैदिक कर्मकांड का आचरण नहीं कर सकते । साथ ही अवैदिक व्यक्ति यज्ञ नहीं कर सकता । यज्ञ और संबंधित कर्मकांड करने के लिए वैदिक होना आवश्यक होता हैपरंतु डॉफिरोज खान मुसलमान हैं । उनके धर्मानुसार यज्ञ ‘हराम’ है । इसलिए हिन्दू जनजागृती समिती मांग करती है कीइस विश्‍वविद्यालय के सभी नियमो का पालन होने हेतु हिन्दू धर्मशास्त्र के अनुसार आचरण करनेवाले कुलगुरु की नियुक्ति की जाए । इसी के साथही हाल ही मे विश्‍वविद्यालय मे कुछ राष्ट्र एवं धर्म की हानी करनेवाली अन्य भी घटनाए हुई हैउस विषय को भी गंभीरता से लेना आवश्यक है । इसमे एक वीर विनायक दामोदर सावरकरजी की प्रतिमा को तोडकर उसे विद्रूप करनेवाले विद्यार्थियों पर तत्काल कठोर कारवाई की जाएऔर दुसरा बीए के नए सत्र से रामायणमहाभारत और वैदिक पाठ्यक्रम हटाने के प्रकरण में दोषींओ को तत्काल निलंबित कर पाठ्यक्रम को पूर्ववत किया जाएऐसी हम मांग करते है ।

Continue Reading

खास खबर

शिक्षाविद सतीश फोगाट लंदन की संसद में सम्मानित

Published

on

यू .के., इंग्लैंड स्थित लंदन की संसद (हाउस ऑफ़ कॉमन्स) में हरियाणा प्रदेश के फरीदाबाद जिला स्थित फौगाट पब्लिक सी. सै. स्कूल के निदेशक सतीश फौगाट को प्रमाण पत्र एव ट्रॉफी देकर सम्मानित किया गया। यह पुरस्कार शिक्षा के क्षेत्र में सराहनीय योगदान करने वाले किरदारों को दिया गया। पुरस्कार/ अवॉर्ड भारत देश व अन्य देशों से आए शिक्षाविदों को दिया गया। इस मौके पर हाउस ऑफ़ लॉर्ड्स के लॉर्ड डूब्स, बेरोनैस थॉमटन आध्यात्मिक गुरु व इस्कॉन संस्था के ट्रस्टी गुरु गौर गोपाल दास, सी.बी.एस.ई. के परीक्षा नियंत्रक डॉ. संयम भारद्वाज, क्षेत्रीय अधिकारी मनीष अग्रवाल, निसा के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. कुलभूषण शर्मा, इंटेलीजेन्ट माइंडस ट्रस्ट के ट्रस्टी राजेश बजाज, ओमान से सिद्दीकी हसन, सूरत से चुन्नीभाई गजेरा, रबिन्द्र, कुवैत से डॉ. अनीस अहमद, पुणे से जितेंदर सिंह, जालंधर से फादर अंटोनी, लखनऊ से डॉ भारती गाँधी आदि उपस्थित थे। श्री सतीश फौगाट जी को इस अवसर पर बोलने का मौका मिला तो उन्होंने भारतीय संस्कृति एवं सभ्यता की झलक जो अपने वक्तव्य से छोड़ी, सभी उसके कायल हो गए । उन्होंने अपना सम्बोधन भगवान श्री कृष्ण को याद करते हुए संस्कृत वाणी में “कर्मण्ये वा धिकारस्ते मा फलेषु कदाचन ” सूक्ति से किया और कर्मवाद पर आधारित भाषण दिया। उपस्थितजनो ने इंग्लैंड धरती पर भारतीय सभ्यता एवं संस्कृति की झलक दिखाने वाले श्री फौगाट जी को सराहा। अवॉर्ड समारोह से एक दिन पूर्व लंदन स्थित सेंट स्टीफन स्कूल की शैक्षिक यात्रा की गई। पढ़ाई खासतौर से क्रियाकलाप आधारित थी और टेबलेट से पढ़ाई कराई जा रही थी। पढ़ाई का समय सप्ताह के पांच दिन और स्कूल में ही सभी बच्चो के लिए लंच की व्यवस्था थी। प्रत्येक कक्षा में एक मुख्य अध्यापिका व एक सहायक अध्यापिका समेत 2 टीचर थे। ज्ञात रहे कि लंदन में सभी नागरिकों के बच्चों की पढ़ाई व स्वास्थ्य सम्बन्धी खर्च सरकार द्वारा वहन किया जाता है ।

Continue Reading
खास खबर2 days ago

बतौर अध्यात्मिक वक्ता सम्मानित हुए पत्रकार शकुन रघुवंशी

सिटी न्यूज़2 weeks ago

डीएवी शताब्दी कॉलेज के छात्रों ने किया राजस्थान का शैक्षिक भ्रमण

सिटी न्यूज़1 week ago

घिनौना कृत्य करने वालों को फांसी की सजा मिले-कृष्ण अत्री

सिटी न्यूज़3 weeks ago

द्रोणाचार्य स्कूल में बच्चों ने मनाई हैलोवीन पार्टी

WhiteMirchi TV2 weeks ago

इससे अच्छा तो मुझे फांसी ही दे देते

WhiteMirchi TV2 weeks ago

बुजुर्ग क्यों जरुरी ?

वाह ज़िन्दगी2 weeks ago

मिलन कार्यक्रम में पूर्व छात्रों ने की परस्पर सहयोग पर चर्चा

सिटी न्यूज़2 weeks ago

शहीद भगतसिंह के पौत्र को मुख्यमंत्री ने दिया शादी पर आशीर्वाद

सिटी न्यूज़2 weeks ago

लव लैटर फीचर फिल्म की शूटिंग का शुभारंभ

सिटी न्यूज़2 weeks ago

भाजपा का मंत्र ‘राम नाम जपना, आतंकियों का माल अपना’ :- कृष्ण अत्री

लोकप्रिय