Connect with us

सिटी न्यूज़

स्वामीजी ने पौधारोपण कर बताए पर्यावरण रक्षा के उपाय

Published

on

स्वामीजी ने पौधारोपण कर बताए पर्यावरण रक्षा के उपाय

श्री सिद्धदाता आश्रम की ओर से पौधारोपण का कार्यक्रम आयोजित

स्वामी श्री पुरुषोत्तमाचार्य जी महाराज ने लोगों को पर्यावरण बचाने का दिया संदेश

 

फरीदाबाद।

विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर सूरजकुंड रोड स्थित श्री सिद्धदाता आश्रम के बाहर आज पौधारोपण कार्यक्रम आयोजित हुआ। इस अवसर पर अधिष्ठाता अनंतश्री विभूषित इंद्रप्रस्थ एवं हरियाणा पीठाधीश्वर श्रीमद जगदगुरु रामानुजाचार्य स्वामी श्री पुरुषोत्तमाचार्य जी महाराज ने पौधारोपण किया और भक्तों को पर्यावरण सुरक्षा का संदेश दिया।

जगदगुरु स्वामी श्री पुरुषोत्तमाचार्य जी महाराज ने पौधारोपण करने के बाद भक्तों से कहा कि आज के भौतिकवादी जीवन में लोगों ने पर्यावरण को इतना अशुद्ध कर दिया है कि अब वह अशुद्धि हमारे ऊपर हमला करने लगी है। उन्होंने कहा कि मौसम भी अपने रंग बदल रहा है। यह जो प्राकृतिक आपदाएं आ रही हैं यह वास्तव में पर्यावरण में हो रहे बदलाव के कारण हो रहा है। लेकिन मानव इस ओर नहीं सोच रहा है। वृक्ष, पहाड़, जल, जन्तु बड़ी तेजी से दूषित होते जा रहे हैं। जिनके दुष्प्रभावों के चक्र में सभी फंसते जा रहे हैं।

जगद्गुरु स्वामी पुरुषोत्तमाचार्य जी महाराज ने कहा कि हमें पर्यावरण शुद्धि और रक्षा दोनों का वचन लेना चाहिए। इसकी शुरुआत हम पौध रोपण से कर सकते हैं। वहीं जल का व्यय रोकना, प्लास्टिक का उपयोग घटाना, पॉलिथीन का प्रयोग धीरने धीरे खत्म करना आदि ऐसे उपाय हैं जिनके द्वारा हम पर्यावरण की रक्षा कर सकते हैं।

सिटी न्यूज़

ग्रामीण स्वच्छता सर्वेक्षण में दूसरे नंबर पर फरीदाबाद

Published

on

फरीदाबाद। केन्द्रीय राज्य मंत्री श्री रतन लाल कटारिया पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय विभाग और कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री श्री डी वी सदानन्द गौङा  द्वारा उपायुक्त अतुल द्विवेदी को देश के स्वच्छता सर्वेक्षण ग्रामीण में फरीदाबाद का देश मै दूसरा स्थान प्राप्त करने पर सम्मानित किया गया। पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय भारत सरकार द्वारा प्रवासी भारतीय केंद्र नई दिल्ली में विश्व शौचालय दिवस के अवसर पर सम्मान समारोह  कार्यक्रम में सम्मानित किया गया । जिला के सरकारी प्रवक्ता ने यह जानकारी देते हुए  बताया कि शहरों की तर्ज पर गावों में हुए स्वच्छता सर्वेक्षण में फरीदाबाद जिला को देश में दूसरा स्थान मिला है । पहले स्थान तमिलनाडु प्रान्त का पेद्दापल्ली रहा है।जबकि हरियाणा का ही रेवाङी जिला तीसरे स्थान पर रहा । इसमें गावों की आगंनबाङियो, सार्वजनिक स्वास्थ्य केंद्रों,सामुदायिक शौचालयों आदि का सर्वेक्षण किया गया था।इस दौरान आम जन की भी राय जानी गई थी। स्वच्छता सर्वेक्षण ग्रामीण-2019 के विजेताओं की घोषणा गत दो अक्टूबर को गुजरात में आयोजित राष्ट्रीय स्तरीय कार्यक्रम में की गई थी । इस सर्वेक्षण में देश के 683 जिलों की 17 हजार 209 ग्राम पंचायतों को शामिल किया गया था । इसमें हरियाणा प्रदेश के सभी 22 जिलों को शामिल किया गया था। इस सर्वेक्षण में रेवाङी जिला तीसरे स्थान पर रहा।
Continue Reading

सिटी न्यूज़

एनएसयूआई ने बच्चों के साथ मनाई इंदिरा की जयंती

Published

on

फरीदाबाद। आज एनएसयूआई फरीदाबाद के कार्यकर्ताओं ने एनएसयूआई हरियाणा के प्रदेश महासचिव कृष्ण अत्री के नेतृत्व में भारत की प्रथम महिला प्रधानमंत्री स्व. श्रीमति इंदिरा गांधी जी की 102वीं जयंती मनाई। इस दौरान एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं ने सेंट्रल पार्क में गरीब बच्चों को पैन कॉपी, फल, बिस्कुट बांटे। एनएसयूआई हरियाणा के प्रदेश महासचिव कृष्ण अत्री ने उनके जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री स्व. श्रीमती इंदिरा गांधी जी का जन्म 19 नवंबर 1917 को इलाहाबाद में हुआ था, उनके बचपन का नाम प्रियदर्शिनी था। तेज तर्रार और निडर होकर फैसले लेने वाली देश की पहली महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी जी को आयरन लेडी के नाम से जाना जाता था। इंदिरा गांधी जी ने प्रधानमंत्री रहते हुए पाकिस्तान के दो टुकड़े करने और पंजाब में फैले उग्रवाद को उखाड़ फेंकने के लिए कड़ा फैसला लेते हुए स्‍वर्ण मंदिर में सेना भेजने का साहस दिखाया था। कृष्ण अत्री ने कहा कि वह प्रभावी व्यक्तित्व वाली मृदुभाषी महिला थीं और अपने कड़े से कड़े फैसलों को पूरी निर्भयता से लागू करने का हुनर जानती थीं। राजनीतिक स्‍तर पर भले ही उनकी कई मुद्दों को लेकर आलोचना होती हो, लेकिन उनके विरोधी भी उनके कठोर निर्णय लेने की काबलियत को दरकिनार नहीं करते हैं। यही चीजें हैं जो उन्‍हें आयरन लेडी के तौर पर स्‍थापित करती हैं। अत्री ने कहा कि इंदिरा गांधी जी ने सक्रिय राजनीति में अपने पिता जवाहरलाल नेहरू के निधन के बाद कदम रखा। उन्होंने पहली बार प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के कार्यकाल में सूचना और प्रसारण मंत्री का पद संभाला था। इसके बाद शास्त्री जी के निधन पर वह देश की तीसरी प्रधानमंत्री चुनी गईं. इंदिरा गांधी को वर्ष 1971 में भारत रत्न से भी सम्मानित किया गया । इंदिरा गांधी ने 1966 से 1977 के बीच लगातार तीन बार देश की बागडोर संभाली और उसके बाद 1980 में चौथी बार प्रधानमंत्री बनी।  इस दौरान समाजसेवी धर्मेंद्र शर्मा, डीएवी कॉलेज के पूर्व अध्यक्ष एडवोकेट कृष्ण शर्मा, राहुल वर्मा, हंस आर्यन, अनिल माहौर, आकाश, गोपाल आदि मौजूद थे।
Continue Reading

सिटी न्यूज़

बच्चों ने सीखे आयुर्वेद से स्वस्थ रहने के गुण

Published

on

फरीदाबाद। फरीदाबाद 21बी स्थित जीवा पब्लिक स्कूल एक अदभुत व अनूठा स्कूल है साथ ही यह एक अयूर स्कूल भी है। जहाँ बच्चों को पाठ्यक्रम की शिक्षा के साथ-साथ आयुर्वेद द्वारा स्वास्थ्य के लिए जागरूक किया जाता है। इसी श्रृंखला में आज विद्यालय में कक्षा पहली से लेकर तीसरी तक के छात्रों के लिए आयुर्वेदिक कार्यशाला का आयोजन किया गया है। इस कार्यशाला में छात्रों को आंतरिक एवं बाह्य दोनों रूप से स्वस्थ रखने के तरीके आयुर्वेद के अनुसार बताए गए। कार्यक्रम का संचालन डॉ. सविता कौशिक ने किया जिन्होंने छात्रों को स्वास्थ्य एवं स्वच्छता दोनों के विषय में बताया। उन्होंने छात्रों को समझाया कि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ दिमाग का निवास होता है। डॉ. सविता जीवा संस्थान के टेलिमेडिसन संस्थान में ही बतौर डॉक्टर के रूप में कार्यरत हैं। इसके अलावा इन सब बातों को समझाने के लिए उन्होंने छात्रों को पी. पी. टी. के माध्यम से अनेक कार्टून चरित्रों को भी दिखाया गया एवं इन कार्टून चरित्रों के माध्यम से समझाया गया कि स्वयं स्वस्थ्य रहने के लिए स्वच्छता को अपनाएँ जैसे प्रतिदिन स्नान करें, खाना खाने से पहले हाथ धोंए, समय पर नाखून काटें व साफ रखें व स्वस्च्छ एवं पौस्टिक भोजन करें। छात्रों ने भी अपने पसंदीदा कार्टून चरित्रों को देखकर बहुत ही प्रसन्नता प्रकट की एवं प्रेरणा प्राप्त की। डॉ. सविता कौशिक ने छात्रों को अनेक बातें समझाई व छात्रों से प्रश्न भी पूछे व डॉ. सविता कौशिक ने छात्रों के प्रश्नों के उत्तर सुने व विस्तार से समझाया। इसके अलावा उन्होंने छात्रों को उनकी शारीरिक संरचना के अनुसार ही भोजन करना भी सिखाया। उन्होंने छात्रों को वात, पित , कफ के अनुसार ही भोजन करने के विषय में बताया एवं अधिक से अधिक आयुर्वेदिक संसाधनों का प्रयोग करने के लिए प्रेरित किया। उन्हेांने कहा कि घर में उपलब्ध जितने भी औषधीय तत्व होते हैं उनके प्रयोग से स्वयं को स्वस्थ रखने का प्रयास करें साथ ही उन्होंने छात्रों से च्यवनप्राश एवं स्वर्णप्राश लेने की सलाह भी दी क्योंकि इनसे बच्चों में रोग प्रतिरोधक क्षमता का विकास होता है एवं बच्चे कम बीमार पढ़ते हैं और यदि आप बीमार पड़ते भी हैं तो जल्दी ठीक हो जाते हैं। इस अवसर पर विद्यालय की प्रधानाचार्या श्रीमती देविना निगम भी उपस्थित रहीं एवं संयोजिका सुज़ेन ने पूरी कार्यशाला का आयोजन किया।

Continue Reading
सिटी न्यूज़2 days ago

ग्रामीण स्वच्छता सर्वेक्षण में दूसरे नंबर पर फरीदाबाद

सिटी न्यूज़2 days ago

एनएसयूआई ने बच्चों के साथ मनाई इंदिरा की जयंती

सिटी न्यूज़2 days ago

बच्चों ने सीखे आयुर्वेद से स्वस्थ रहने के गुण

सिटी न्यूज़2 days ago

हाई कोर्ट में याचिका दायर, कंडम कमरों का होगा सुधार

सिटी न्यूज़3 days ago

सतयुग में मेधावी बच्चों को मिलेगी स्कॉलरशिप

सिटी न्यूज़3 days ago

जनता से किया हर वायदा होगा पूरा : मूलचंद शर्मा

सिटी न्यूज़3 days ago

जीवाग्राम में ‘‘नाड़ी परीक्षण” पर वर्कशाप आयोजित

सिटी न्यूज़1 week ago

बाल दिवस पर संस्कृत महाविद्यालय में प्रतियोगिता आयोजित

सिटी न्यूज़1 week ago

ऐशियन चैम्पियनशिप में गोल्ड विजेता शिखा नरवाल का कुन्दन ग्रीन वैली ने किया भव्य स्वागत

सिटी न्यूज़1 week ago

मानव रचना में आयोजित होगा विक्रम साराभाई सेंटेनेरी प्रोग्राम

सिटी न्यूज़2 weeks ago

प्रेरणाप्रद : पैट्रोल पम्प के स्थापना दिवस पर रक्तदान

सिटी न्यूज़3 weeks ago

यमुना की अविरलता एवं निर्मलता के लिए प्रार्थना

सिटी न्यूज़3 weeks ago

विजय प्रताप के धन्यवाद समारोह में उमड़ा जनसैलाब, लिया रैली का रूप

सिटी न्यूज़3 weeks ago

विधायक नरेंद्र गुप्ता के क्षेत्र में केंद्रीय राज्यमंत्री ने शुरू करवाए विकास

सिटी न्यूज़3 weeks ago

सरकार की कार्यशैली पर पैनी नजर रखें कांग्रेस कार्यकर्ता : हुड्डा

सिटी न्यूज़3 weeks ago

सोमवार को मनाया जाएगा गोपाष्टमी पर्व

खास खबर3 weeks ago

खट्टर ने दी प्रदूषण पर ओछी राजनीती न करने की नसीहत

सिटी न्यूज़3 weeks ago

एनएचपीसी में ‘सतर्कता जागरूकता सप्ताह

सिटी न्यूज़2 weeks ago

वर्कप्लेस एरगोनॉमिक्स इन लीगल पर्सपेक्टिव पर वकीलों की कार्यशाला

सिटी न्यूज़3 weeks ago

बच्चों में संस्कारों का सजृन करें माता-पिता : प्रेम जी गोयल

लोकप्रिय