Connect with us

खास खबर

न कर्मचारी झुकने को तैयार, न ही सरकार का रुख नरम

Published

on

whitemirchi.com

16 अक्टूबर से शुरु हुई हड़ताल प्रदेश भर में अब भी जारी है| हरियाणा रोडवेज की तालमेल कमेटी ने एक बार हड़ताल को आगे बढ़ाने का ऐलान कर दिया है| रोडवेज कर्मियों ने हड़ताल को 2 दिन और आगे बढ़ा दिया है| लाख कोशिशों के बावजूद भी कर्मचारियों और सरकार के बीच बात नहीं बन पाई है आखिरकार मामला पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट पहुंच गया है| वहीं रोडवेज कर्मचारियों को दूसरे संगठनों का भी साथ मिल गया है| प्रदेशभर में रोडवेज का प्रदर्शन जारी है|

आपको बता दें कि अब यह हड़ताल 4 अक्टूबर तक जारी रहेगी| तालमेल कमेटी की बैठक में यह फैसला लिया गया है कि अगर सरकार ने उनकी मांगें नहीं तो हड़ताल को और आगे भी बढ़ाया जा सकता है|

जानकारी के मुताबिक फरीदाबाद विभागों का निजीकरण करना अब सरकार की किरकिरी बना हुआ है एक और जहां रोडवेज कर्मी हड़ताल पर हैं वहीं उनके समर्थन में कई अन्य विभागों के साथ हरियाणा विद्युत वितरण निगम के कर्मियों ने अनिश्चितकालीन हड़ताल शुरू कर दी है| फरीदाबाद में बिजली कर्मचारियों ने भी रोडवेज कर्मचारियों की हड़ताल को समर्थन शुरू कर दिया है| कर्मचारी नेताओं के मुताबिक जबतक उनकी मांगों को पूरा नहीं किया जाता तबतक हड़ताल जारी रहेगा|

खास खबर

क्या पार्षद पर शराब पीने का आरोप लगाने वाले विधायक Neeraj Sharma भी शराब के नशे में थे?

Published

on

Continue Reading

खास खबर

अतिक्रमण नहीं किया, मां ने बारिश में डूबने से बचाया घर – विधायक

mm

Published

on

बोले विधायक नीरज शर्मा, एनआईटी विस में किसी का घर नहीं डूबने दूंगा
फरीदाबाद। एनआईटी विधायक नीरज शर्मा ने अपने घर के बाहर नगर निगम द्वारा की गई तोडफ़ोड़ पर आज अपना पक्ष मीडिया के सामने रखा। उन्होंने कहा कि दो दिन पहले उन्होंने निगम पार्षद सुरेंंद्र अग्रवाल को सरकारी भवन में शराब पीते लाइव पकड़ा था, जिसके विरोध में उन्होंने अन्य पार्षदों के सहयोग से नगर निगम से यह कार्रवाई करवाई है। जबकि यह घर उनकी मां का है। विधायक ने कहा कि वह गलत को बर्दाश्त नहीं करेंगे और उनकी मुहिम जारी रहेगी।
पुलिस पर भरोसा कर गलती की : विधायक
विधायक नीरज शर्मा बोले कि उन्होंने पुलिस पर विश्वास कर गलती की है। उन्होंने जब पार्षद को मौके पर शराब पीते पकड़ा था और पुलिस को मौके पर ही बुला लिया था तो उन्हें उसका मेडिकल करवाने के बाद ही वहां से हटना चाहिए था। इतने में पुलिस ने मामला रफा दफा कर दिया। उन्हें पुलिस ने पार्षद व अन्य का मेडिकल करवाने का विश्वास दिखाया था जिसके बाद वह चंडीगढ़ निकल गए थे। अब पुलिस कह रही है कि वहां पर लस्सी पी जा रही थी। विधायक ने पूछा कि शराब की बोतल में लस्सी कहां सप्लाई होती है, पुलिस इसका जवाब दे।

विधायक नीरज शर्मा की मां भाई के घर के बाहर तोड़फोड़ करते निगमकर्मी।

गलत मंशा के साथ मेरी मां के घर की गई तोडफ़ोड़ : विधायक
विधायक शर्मा ने बताया जिस घर पर तोडफ़ोड़ की गई है वहां उनकी बुजुर्ग मां रहती हैं और उन्होंने यहां एक एक फुट ऊंची ईंट इसलिए लगवाई थीं क्योंकि गली के ऊपर हो जाने से उनका मकान नीचा हो गया है जिसमें बारिश का पानी भर जाता है। जिससे न केवल फर्नीचर और दीवारें खराब हो जाती हैं बल्कि सामान्य कामकाज भी बाधित हो जाता है।
विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि कॉलोनी में गलियां और सडक़ें बार बार बनने के कारण मकान नीचे हो गए हैं जिसके कारण बारिश के पानी घरों में भरता है। अब एक मां ने उस बारिश के पानी से अपना घर बचाने के लिए दो ईंट लगा लीं, जिसे आज अतिक्रमण का नाम दिया जा रहा है। यदि पार्षद सुरेंद्र अग्रवाल व अन्य को कोई कार्रवाई करवानी थी तो वह मुझ पर करवाते। उन्होंने मेरी मां के खिलाफ कार्रवाई करवाई है। जबकि चार मकानों की इस गली में किसी को उससे कोई दिक्कत नहीं है। दूसरा यह गली आम गुजरने की गली भी नहीं है।
और किसी का मकान नहीं डूबने दूंगा : विधायक
विधायक नीरज शर्मा ने व्हाइट मिर्ची के सवाल के जवाब में कहा कि मेरी मां का घर तो डूब गया लेकिन अब मैं एनआईटी में किसी गली अथवा सडक़ के निर्माण के कारण लोगों के मकान नीचे नहीं होने दूंगा। श्री शर्मा ने कहा कि नगर निगम के नियमों में सामान्यतया यह टेंडर का नियम है कि पिछली परत को उखाडक़र नया निर्माण होना चाहिए जिसका समय और पैसा बचाने के लिए ठेकेदार पालन नहीं करते हैं। नतीजतन मकान धीरे धीरे नीचे हो जाते हैं और सडक़ व गलियां ऊंची हो जाती हैं जिससे लोगों को जलभराव व जलजमाव की दिक्कतें पेश आती हैं। उन्होंने कहा कि वह आने वाले टेंडरों में यह बात लागू करवाएंगे कि नया निर्माण ऊंचा न हो और पिछली परत को उखाडक़र ही किया जाए।

मॉनसून आने पर दिखाऊंगी घर का हाल : माया शर्मा
विधायक की मां एवं पूर्व पार्षद माया शर्मा ने बताया कि कोई भी व्यक्ति यहां उनके घर को आकर देख सकता है। उनका मकान सडक़ से करीब ढाई फुट नीचे हो गया है। जब तक यह मकान तोडक़र दोबारा नहीं बनाया जाएगा, तब तक हमारे घर में बारिश का पानी भरता ही रहेगा। मेरी दो ईंट हटाने से यदि शहर अतिक्रमण मुक्त होता है तो नगर निगम यह भी कर ले। लेकिन अभी मॉनसून में मेरे घर का क्या हाल होगा, वो भी मैं सबको दिखाऊंगी।
विधायक के भाई मुनेश शर्मा ने बताया कि पिछली बारिश में उनके घर में शादी थी लेकिन बारिश का पानी घर में भरने से सारा सामान खराब हो गया था और रिश्तेदारों को बैठाना मुश्किल हो गया था।

Continue Reading

खास खबर

यूथ कांग्रेस का हाथ, नव धनाढ्यों के साथ

mm

Published

on

यूथ कांग्रेस की चुनाव प्रक्रिया का अंदरखाते हो रहा भारी विरोध
कहीं रही बची इज्जत भी दांव पर न लगा दे विरोध की चिंगारी

फरीदाबाद। हरियाणा एवं गुजरात में प्रदेश यूथ कांग्रेस की चुनाव प्रक्रिया शुरू होते ही अंदरखाते विरोध की चिंगारी भी सुलगने लगी है। कार्यकर्ताओं का कहना है कि पेट्रोल मूल्यवृद्धि पर भाजपा को घेरने की कोशिश में लगी यूथ कांग्रेस ने सदस्यता शुल्क में 10 गुने की बढ़ोतरी की है। जो बिल्कुल तर्कसंगत नहीं है और नवधनाढ्यों को राजनीति में स्थापित करने की साजिश है।
यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव एवं हरियाणा यूथ कांग्रेस के प्रभारी दीपक भाटी चोटीवाला ने बताया कि फिलहाल हरियाणा और गुजरात में कमेटियों के तीन वर्ष का कार्यकाल पूरा हो गया है। कोविड के कारण थोड़ा देरी से लेकिन सदस्यता अभियान को दु्रत गति दी गई है। इसमें कोई भी 18 से 35 वर्ष का भारतीय नागरिक 50 रुपये का शुल्क देकर युवा कांग्रेस का सदस्य बन सकता है। जिसके लिए हम हर जिले में जाकर साथियों में जोश भर रहे हैं। गौरतलब है कि यह शुल्क गत चुनाव में पांच रुपये था।
गरीब कार्यकर्ता तो चुनाव नहीं लड़ पाएगा
यूथ कांग्रेस की स्थापना वर्ष 1960 में की गई थी, तब इसकी सदस्यता का शुल्क 50 पैसे था, जो समय के साथ बढ़ते बढ़ते गत चुनाव तक पांच रुपये और इस बार 50 रुपये हो गया है। कार्यकर्ताओं का कहना है कि उन्हें दौड़ में बने रहने के लिए हजारों की संख्या में सदस्य बनाने होंगे और यह सर्वविदित तथ्य है कि अधिकांश सदस्यों का शुल्क नेता को खुद ही देना पड़ता है। ऐसे में गरीब कार्यकर्ता तो पदाधिकारी बनने का सपना देख ही नहीं पाएगा।
जिसपे जितनी संख्या भारी, उसपे वैसी जिम्मेदारी
चुनाव की व्यवस्था ऐसी है कि सदस्यता जुटाने की क्षमता के हिसाब से कार्यकर्ताओं को पद दिए जाएंगे। ऐसे में एक अनुमान है कि विधानसभा के लिए कम से कम एक हजार, जिले के लिए पांच हजार और प्रदेश के लिए 10 हजार सदस्यों की संख्या मानक हो सकती है। इससे कम सदस्य बनाने वाले पदाधिकारी बनने का सपना न ही देखें तो अच्छा होगा।
मतलब साफ है कि विधानसभा में पदाधिकारी बनने के लिए 50 हजार, जिले में ढाई लाख और प्रदेश में पांच लाख रुपये जुटाने पड़ सकते हैं।
विरोध के कारण और भी हैं
विरोध का कारण केवल सदस्यता ही नहीं है बल्कि चुनाव नामांकन की फीस भी दोगुना किए जाने से संभावित दावेदार नाराज हैं। उनका कहना है कि कांग्रेस कैसे महंगाई और मूल्यवृद्धि पर केंद्र सरकार को घेर सकती है जब उसने ही अपनी सदस्यता शुल्क में दस गुने की और नामांकन शुल्क में दोगुनी की वृद्धि की है।
चोटीवाला ने बताया कि विधानसभा स्तर के लिए 1500 रुपये, जिले के लिए 3000 रुपये और प्रदेश के लिए 7500 रुपये शुल्क रखा गया है। हालांकि अनुसूचित जाति/जनजाति के उम्मीदवारों को इसमें 50 प्रतिशत की छूट दी गई है। लेकिन संभावित उम्मीदवार कहते हैं कि गरीबी जाति देखकर नहीं आती।
नवधनाढ्यों के लिए है सदस्यता अभियान
एक अनुमान के मुताबिक हरियाणा प्रदेश में सदस्यता का आंकड़ा 10 लाख की संख्या को पार कर सकता है। ऐसे में कहना अतिश्योक्ति नहीं होगा कि करोड़ों रुपयों में जुटने वाली रकम के खैवनहार वही नव धनाढ्य होंगे जिनके पास पापा का पैसा तो है लेकिन पद नहीं है। गरीब कार्यकर्ता उनकी दरियों को बिछाने का कार्य पहले की तरह बदस्तूर करता रहेगा।
रिटर्निंग ऑफिसर भी कर रहे काम
अखिल भारतीय कमेटी द्वारा इस चुनाव प्रक्रिया को निर्विघ्न संपन्न कराने के लिए आंध्र प्रदेश के नरसिंह रेड्डी को जोनल रिटर्निंग अधिकारी बनाया गया है। वह कार्यकर्ताओं को वोटिंग, मेंबरशिप आदि का प्रशिक्षण भी दे रहे हैं।
प्रदेश टीम में जुडऩे को आतुर
वैसे बता दें कि फरीदाबाद निवासी यूथ कांग्रेस प्रवक्ता पराग शर्मा व प्रदेश सचिव राजेश खटाना व अन्य ऐसे अनेक नाम हैं जो अपना कद बढ़ाना चाहते हैं। जानकारी के अनुसार यह लोग सदस्यता अभियान में जमकर दम लगा रहे हैं।

Continue Reading
सिटी न्यूज़5 days ago

महिलाओं के बीच रोटेरियन बोले, खुल के जीयो जिंदगी

बक Lol3 weeks ago

मंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने क्यों कहा, यह कांग्रेस की नहीं मोदी की सरकार है

खास खबर3 weeks ago

क्या पार्षद पर शराब पीने का आरोप लगाने वाले विधायक Neeraj Sharma भी शराब के नशे में थे?

WhiteMirchi TV3 weeks ago

दूसरे के घर में रहकर अपने घर की सफाई नामुमकिन है!

रूह-ब-रूह3 weeks ago

उम्मीदवार ऐसा चुनें, जिससे आपकी बहु बेटी सुरक्षित रहें

WhiteMirchi TV3 weeks ago

गुनाहों का देवता ही क्यों, गुनाहों का खुदा क्यों नहीं?

रूह-ब-रूह3 weeks ago

ताऊ देवीलाल की नीतियों से क्यों प्रभावित हैं डॉ सतीश फौगाट

WhiteMirchi TV3 weeks ago

डॉ आंबेडकर हैं आधुनिक मनु !

बक Lol1 month ago

पत्रकार को पालतू कहने पर मीडियाकर्मियों में तू-तू मैं-मैं

खास खबर1 month ago

अतिक्रमण नहीं किया, मां ने बारिश में डूबने से बचाया घर – विधायक

खास खबर3 weeks ago

क्या पार्षद पर शराब पीने का आरोप लगाने वाले विधायक Neeraj Sharma भी शराब के नशे में थे?

WhiteMirchi TV3 weeks ago

दूसरे के घर में रहकर अपने घर की सफाई नामुमकिन है!

WhiteMirchi TV3 weeks ago

गुनाहों का देवता ही क्यों, गुनाहों का खुदा क्यों नहीं?

WhiteMirchi TV3 weeks ago

डॉ आंबेडकर हैं आधुनिक मनु !

WhiteMirchi TV2 months ago

जाति छोड़ना मुश्किल और धर्म छोड़ना आसान है क्या ?

WhiteMirchi TV3 months ago

ऐसे मिलेगा जाति से छुटकारा !!!!

WhiteMirchi TV3 months ago

कैसे लिंगायाज विद्यापीठ छात्रों को बेचने लायक बना रही है?

WhiteMirchi TV1 year ago

अपनी छाती न पीटें, मजाक न उड़ाएं…. WhiteMirchi

WhiteMirchi TV1 year ago

लेजर वैली पार्क बना किन्नरों की उगाही का अड्डा WhiteMirchi

WhiteMirchi TV1 year ago

भांकरी फरीदाबाद में विद्यार्थी तेजस्वी तालीम शिविर में भाग लेंगे फौगाट स्कूल के बच्चे| WhiteMirchi

लोकप्रिय