Connect with us

वाह ज़िन्दगी

स्वामी सुदर्शनाचार्य ने क्यों कहा ‘तेरे बाप की है क्या रोटी

mm

Published

on

तेरा तुझको अर्पण क्या लागे मेरा|

तन भी तेरा, मन भी तेरा |

धन भी तेरा, क्या लागे मेरा |

डॉ शांतनु दत्ता चौधुरी

यदि कोई बाबाजी आ जाये और कह दे कि भैय्या एक रोटी दे दो| तो कहते हैं,तेरे बाप की ‘ है क्या रोटी| शरीर हष्ट -पुष्ट है| लाल हो रहा है| कपड़े भी अच्छे पहने हुए हैं| रोटी माँगने आ गया| इस युवावस्था में भी कमा कर नहीं खाया जा सकता है क्या| इस तरह भीख माँगते तुझे शर्म नहीं आती है क्या| ”

आरती में गा रहे थे –
तेरा तुझको अर्पण क्या लागे मेरा |
कथनी और करनी में कितना बड़ा अंतर  है| पहले भगवान को सब कुछ अर्पित कर रहे थे | अब एक रोटी के लिए ही मुँह मोड़ लिया| मानव के मन में यह विरोधाभास है कि प्रकृति उसे मोह बंधन से छुटकारा नहीं दे सकती है |
बाबाजी भगवान के आश्रित हैं, पर घरों में उनको धक्का मार दिया जाता है| कुछ समय पूर्व यह कह रहे थे कि तेरा तुझको अर्पण और दूसरे ही क्षण दुत्कारना | यह भगवान को चिढ़ाने वाली बात है|
बोलेंगे, कोठा मुण्डेला में भायाजी हाथ मत दे, बाकी पूरा घर थारा ही है और अय्या कमरा में मत जाइओ, बाकि सब घर थारो है,” और घर में रखा क्या है मुझे बताएं|
मानव कितना स्वार्थी है ?
भगवान ने उसे तन धन सम्मान सब कुछ दिया |
उसने धन को तिजोरियों से भर दिया और अहंकार में जीने लगा | इस प्रकार वह कहता तो यही है कि भगवान यह सब कुछ धन आपका ही है किंतु जब देने का अवसर आता है तो वह कृपण बन जाता है | एक पैसा भी उससे नहीं देता है क्योंकि उसने धन सम्पदा को अपना मान लिया ही|
भगवान की दी हुई वस्तु को अपना कहना, यह अहंकार का सूचक है | क्या यह उस परमात्मा से बेईमानी नहीं है ? क्या यह परमात्मा की दी हुई वस्तु का दुरुपयोग नहीं है? मानव का यह भ्रम है जो कुछ मेरे पास एकत्र है वह मेरे द्वारा अर्जित है | वह यहाँ ईश्वर की कृपा को स्वीकार नहीं करता है?
जबकि जन्म जन्मांतरों के कर्मों  के कारण प्रारब्ध स्वरुप उसे सम्पति प्राप्त हुई हैं और यह सब भगवान के अनुग्रह के कारण ही हुए है | किंतु वह अपने आपको सम्पदा का स्वामी कहता है और किसी को देना नहीं चाहता| यह उस सम्पदा के प्रति मोह है और मोह ही उसके बंधन का कारण है |
लक्ष्मी का पति भगवान है| लक्ष्मी पति तो एक ही है और वह भगवान विष्णु है | यदि उसकी पत्नी के प्रति दुर्भावना रखेंगे तो ऐसी मार खायंगे कि एक भी बाल नहीं बचेगा, क्योंकि यह सर्वशक्तिमान पति है| कोई सामान्य आदमी नहीं है| लक्ष्मी को तिजोरियों में भरकर छिपाकर रखना महापाप है | यदि कोई इस प्रकार का पाप करता है तो वह बड़े भारी दंड का भागीदार है | वह भगवान से ही चोरी कर रहा है|
हमारा कर्तव्य यह है कि उसकी पत्नी लक्ष्मी को उसकी सेवा में लगा दें | यही हमारा धर्म है, यही हमारा कर्म है, यही कर्तव्य है और यही परम् लक्ष्य है, सृष्टि का नियम है कि पत्नी ही पति की सेवा कर  सकती है | परमात्मा की पत्नी लक्ष्मी है | उसको छिपाकर रखना भगवान के साथ बेईमानी करना है |
अब आप ही बताइये कि हम परमात्मा से चोरी नहीं कर रहे हैं क्या |
छोटी -मोटी बात तो हमारे अंदर है | मेरे अंदर तो मोटी चोरी है | मैं तो बड़ा चोर हूँ क्योंकि उस परमात्मा के तुम्हारे द्वारा किया हुआ दान भी सबका संग्रह कर रहा हूँ | परन्तु मेरे प्रेमियों ! लक्ष्य के लिए जो मैंने कहा था, शायद आप प्रश्न करना चाहें, इस शंका को मैं ही मिटा दूँ |
आप कल कहें कि यह बाबा इतनी बड़ी बड़ी बातें कर गया और खुद आश्रम के चक्कर में मकान बनाता चला जा रहा है, मंदिर बनाता चला जा रहा है |
मैं कहता हूँ, ऐसा लक्ष्य तो आप प्रेमी भी बनाओ | यह तो उत्तम लक्ष्य है | मैं अपने लिए नहीं, परमात्मा के लिए, आप लोगों के लिए कर रहा हूँ |
इसीलिए, ऐसा लक्ष्य यदि आप लोग बनाएं तो हमारे भारतवर्ष का कल्याण हो जाये, निश्चित ही हो जाये, शत प्रतिशत हो जाये| ऐसा लक्ष्य तो होना ही चाहिए | परहित के लिए होना ही चाहिए | उस लक्ष्य को मैं मना कर रहा हूँ, जो केवल अपने लिए हो|
(स्वामीजी फरीदाबाद स्थित श्री सिद्धदाता आश्रम के संस्थापक हैं| प्रस्तुत विचार उनके प्रवचन संग्रह मानवता से उद्धृत है|)
प्रस्तुति : डॉ शांतनु दत्ता चौधुरी
प्रभु कृपा सतगुरु प्रसाद वर्ल्ड मिशन

वाह ज़िन्दगी

आपातकाल में मकरसंक्रांति कैसे मनाएं ?

mm

Published

on

‘कोरोना की पृष्ठभूमि पर गत कुछ महीनों से त्योहार-उत्सव मनाने अथवा व्रतों का पालन करने हेतु कुछ प्रतिबंध थे । यद्यपि कोरोना की परिस्थिति अभी तक पूर्णतः समाप्त नहीं हुई है, तथापि वह धीरे-धीरे पूर्ववत हो रही है । ऐसे समय त्योहार मनाते समय आगामी सूत्र ध्यान में रखें ।

  1. त्योहार मनाने के सर्व आचार, (उदा. हलदी-कुमकुम समारोह, तिलगुड देना आदि) अपने स्थान की स्थानीय परिस्थिति देखकर शासन-प्रशासन द्वारा कोरोना से संबंधित नियमों का पालन कर मनाएं ।
  2. हलदी-कुमकुम का कार्यक्रम आयोजित करते समय एक ही समय पर सर्व महिलाआें को आमंत्रित न करें, अपितु ४-४ के गुट में 15-20 मिनट के अंतर से आमंत्रित करें ।3. तिलगुड का लेन-देन सीधे न करते हुए छोटे लिफाफे में डालकर उसका लेन-देन करें ।
  3. आपस में मिलते अथवा बोलते समय मास्क का उपयोग करें ।5. किसी भी त्योहार को मनाने का उद्देश्य स्वयं में सत्त्वगुण की वृद्धि करना होता है । इसलिए आपातकालीन परिस्थिति के कारण प्रथा के अनुसार त्योहार-उत्सव मनाने में मर्यादाएं हैं, तथापि इस काल में अधिकाधिक समय ईश्‍वर का स्मरण, नामजप, उपासना आदि करने तथा सत्त्वगुण बढाने का प्रयास करने पर ही वास्तविक रूप से त्योहार मनाना होगा ।

मकरसंक्रांति से संबंधित आध्यात्मिक विवेचन

त्योहार, उत्सव और व्रतों को अध्यात्मशास्त्रीय आधार होता है । इसलिए उन्हें मनाते समय उनमें से चैतन्य की निर्मिति होती है तथा उसके द्वारा साधारण मनुष्य को भी ईश्‍वर की ओर जाने में सहायता मिलती है । ऐसे महत्त्वपूर्ण त्योहार मनाने के पीछे का अध्यात्मशास्त्र जानकर उन्हें मनाने से उसकी फलोत्पत्ति अधिक होती है । इसलिए यहां संक्रांत और उसे मनाने के विविध कृत्य और उनका अध्यात्मशास्त्र यहां दे रहे हैं ।

  1. उत्तरायण और दक्षिणायन :

इस दिन सूर्य का मकर राशि में संक्रमण होता है । सूर्यभ्रमण के कारण होनेवाले अंतर की पूर्ति करने हेतु प्रत्येक अस्सी वर्ष में संक्रांति का दिन एक दिन आगे बढ जाता है । इस दिन सूर्य का उत्तरायण आरंभ होता है । कर्क संक्रांति से मकर संक्रांति तक के काल को ‘दक्षिणायन’ कहते हैं । जिस व्यक्ति की उत्तरायण में मृत्यु होती है, उसकी अपेक्षा दक्षिणायन में मृत्यु को प्राप्त व्यक्ति के लिए, दक्षिण (यम) लोक में जाने की संभावना अधिक होती है ।

  1. संक्रांति का महत्त्व : इस काल में रज-सत्त्वात्मक तरंगों की मात्रा अधिक होने के कारण यह साधना करनेवालों के लिए पोषक होता है ।
  2. तिल का उपयोग : संक्रांति पर तिल का अनेक ढंग से उपयोग करते हैं, उदाहरणार्थ तिलयुक्त जल से स्नान कर तिल के लड्डू खाना एवं दूसरों को देना, ब्राह्मणों को तिलदान, शिवमंदिर में तिल के तेल से दीप जलाना, पितृश्राद्ध करना (इसमें तिलांजलि देते हैं) श्राद्ध में तिलका उपयोग करने से असुर इत्यादि श्राद्ध में विघ्न नहीं डालते । आयुर्वेदानुसार सर्दी के दिनों में आनेवाली संक्रांति पर तिल खाना लाभदायक होता है । अध्यात्मानुसार तिल में किसी भी अन्य तेल की अपेक्षा सत्त्वतरंगे ग्रहण करने की क्षमता अधिक होती है तथा सूर्य के इस संक्रमण काल में साधना अच्छी होने के लिए तिल पोषक सिद्ध होते हैं ।

3 अ. तिलगुड का महत्त्व : तिल में सत्त्वतरंगें ग्रहण करने की क्षमता अधिक होती है । इसलिए तिलगुड का सेवन करने से अंतःशुद्धि होती है और साधना अच्छी होने हेतु सहायक होते हैं । तिलगुड के दानों में घर्षण होने से सात्त्विकता का आदान-प्रदान होता है ।

4 अ. हलदी-कुमकुम लगाना : हलदी-कुमकुम लगाने से सुहागिन स्त्रियों में स्थित श्री दुर्गादेवी का सुप्त तत्त्व जागृत होकर वह हलदी-कुमकुम लगानेवाली सुहागिन का कल्याण करती है ।

4 आ. इत्र लगाना : इत्र से प्रक्षेपित होनेवाले गंध कणों के कारण देवता का तत्त्व प्रसन्न होकर उस सुहागिन स्त्री के लिए न्यून अवधि में कार्य करता है । (उस सुहागिन का कल्याण करता है ।)

4 इ. गुलाबजल छिडकना : गुलाबजल से प्रक्षेपित होनेवाली सुगंधित तरंगों के कारण देवता की तरंगे कार्यरत होकर वातावरण की शुद्धि होती है और उपचार करनेवाली सुहागिन स्त्री को कार्यरत देवता के सगुण तत्त्व का अधिक लाभ मिलता है ।

4 ई. गोद भरना : गोद भरना अर्थात ब्रह्मांड में कार्यरत श्री दुर्गादेवी की इच्छाशक्ति को आवाहन करना । गोद भरने की प्रक्रिया से ब्रह्मांड में स्थित श्री दुर्गादेवीची इच्छाशक्ति कार्यरत होने से गोद भरनेवाले जीव की अपेक्षित इच्छा पूर्ण होती है ।  

4 उ. उपायन देना : उपायन देते समय सदैव आंचल के छोर से उपायन को आधार दिया जाता है । तत्पश्‍चात वह दिया जाता है । ‘उपायन देना’ अर्थात तन, मन एवं धन से दूसरे जीव में विद्यमान देवत्व की शरण में जाना । आंचल के छोर का आधार देने का अर्थ है, शरीर पर धारण किए हुए वस्त्र की आसक्ति का त्याग कर देहबुद्धि का त्याग करना सिखाना । संक्रांति-काल साधना के लिए पोषक होता है । अतएव इस काल में दिए जानेवाले उपायन सेे देवता की कृपा होती है और जीव को इच्छित फलप्राप्ति होती है ।

4 उ 1. उपायन में क्या दें ? : आजकल साबुन, प्लास्टिक की वस्तुएं जैसी अधार्मिक सामग्री उपायन देने की अनुचित प्रथा है ।

Continue Reading

वाह ज़िन्दगी

तुलाराशि के लोगों के लिए कैसा होगा बुध

mm

Published

on

tula

तुला राशि में बुध का गोचर

बुध को व्यापार, बुद्धि, वाणी आदि का कारक माना गया है| विशेष बात ये है कि तुला राशि में बुध वक्री हो रहा है| बुध का वक्री होना ज्योतिष शास्त्र में अति महत्वपूर्ण माना जा रहा है|वैसे तो बुध का यह गोचर सभी राशियों को प्रभावित करेगा लेकिन तुला राशि के जातकों पर इसका विशेष प्रभाव रहेगा|क्योंकि तुला राशि में बुध का गोचर हो रहा है|तुला राशि में बुध बारहवें और नवें भाव का स्वामी माना गया है| बुध का गोचर तुला राशि के प्रथम भाव में हो रहा है|जन्म कुंडली के पहले भाव से व्यक्तित्व, शरीर, आदि का विचार किया जाता|

तुला राशिफल
तुला राशि में बुध के आने से कई मामलों में अच्छे परिणाम देखने को मिलेंगे|बुध का यह गोचर तुला राशि के जातकों को जॉब और व्यापार में अच्छे परिणाम देगा|लेकिन छोटी छोटी चीजों को पाने के लिए भी अधिक परिश्रम करना पड़ेगा|वहीं उन कार्यों को करने में अधिक रूचि और समय खर्च करेंगे जिन्हें आप पहले ही कर चुके हैं|इस दौरान मानसिक तनाव भी हो सकता है|प्यार के मामले में अधिक भावुक रहना आपके लिए हितकर साबित नहीं होगा|विद्यार्थियों के लिए यह समय अच्छा रहेगा|इस दौरान यात्राएं भी कर सकते हैं|परिवार के साथ अच्छा समय गुजरेगा| भगवान गणेश की पूजा करने से लाभ प्राप्त होगा|

Continue Reading

वाह ज़िन्दगी

आज की कुंभ राशि

mm

Published

on

raashifal

कुंभ राशि में धन लाभ: लेन-देन और निवेश में थोड़ी सावधानी जरूर रखें। कोई भरोसेमंद इंसान भी आपके साथ धोखा कर सकता है।

कुंभ राशि में परिवार और मित्र : घरेलू जीवन के लिए यह समय थोड़ा संघर्षमय हो सकता है। किसी भी विवाद में पड़ने से बचना आपके लिए बेहतर होगा।

कुंभ राशि में रिश्ते और प्यार : आपको अपने जीवनसाथी के साथ तालमेल बिठाकर चलना होगा। प्रेम प्रसंगों के लिए यह समय काफी अच्छा साबित हो सकता है। इस समय आपके दोस्तों की संख्या में बढ़ोत्तरी होगी।

कुंभ राशि में स्वास्थ्य : सेहत शानदार रहेगी। बस तली-भुनी व अत्याधिक मिर्च-मसाले युक्त भोजन को त्यागना ही आपके लिए बेहतर होगा।

आपकी कार्यक्षमता में वृद्धि होगी। आप जमकर परिश्रम करेंगे व विरोधी-जन भी आपके सामने हार मान जाएंगे। उच्च अधिकारियों की कृपा से आपको नौकरी में कोई बड़ा लाभ मिल सकता है।

कुंभ राशि में बिज़नेस/स्टॉक/प्रॉपर्टी :शेयर बाजार में निवेश करना किसी भी सूरत में सही नहीं होगा। पेय पदार्थ व होटल-रेस्ट्रोरेंट आदि कार्यों से जुड़े कारोबारी लाभ उठा सकते हैं।

शुभ रंग: नीला

नीला रंग आज आपके लिए लकी साबित होगा। यह रंग आपकी किस्मत बदल सकता है। लाल रंग से बचें, यह रुकावटें पैदा कर सकता है।

शुभ अंक: 9

आज अंक 4 आपके लिए शुभ है। आज करियर से जुड़े फैसले लेने में किसी बुजुर्ग की राय आपके बहुत काम आ सकती है।

Continue Reading
सिटी न्यूज़3 weeks ago

ट्रांसफार्मेशन महारथियों को गुरु द्रोणाचार्य अवार्ड

सिटी न्यूज़3 weeks ago

अफोर्डेबल एजुकेशन के लिए डॉ सतीश फौगाट सम्मानित

खास खबर1 month ago

सेक्टर 56, 56ए में नागरिकों ने बनाया पुलिस पोस्ट

सिटी न्यूज़1 month ago

पीएसए हरियाणा ने दी डीईओ बनने पर बधाई 

सिटी न्यूज़1 month ago

तिगांव में विकास की गति और तेज होगी- ओमप्रकाश धनखड़

सिटी न्यूज़2 months ago

फौगाट स्कूल में एडीसी ने किया मिनी IIT का उद्घाटन 

बचल खुचल2 months ago

जिज्ञासु ने किताब में दर्द जमा किए हैं – रणबीर सिंह

whitemirchiexclusive3 months ago

केंद्र सरकार इस बार कुछ नए तरीकों से मनाएगी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती

वाह ज़िन्दगी3 months ago

आपातकाल में मकरसंक्रांति कैसे मनाएं ?

सिटी न्यूज़3 months ago

खजानी वूमैनस वोकेशनल इइंस्टिट्यूट में मनाया गया लोहड़ी पर्व

WhiteMirchi TV1 year ago

अपनी छाती न पीटें, मजाक न उड़ाएं…. WhiteMirchi

WhiteMirchi TV1 year ago

लेजर वैली पार्क बना किन्नरों की उगाही का अड्डा WhiteMirchi

WhiteMirchi TV1 year ago

भांकरी फरीदाबाद में विद्यार्थी तेजस्वी तालीम शिविर में भाग लेंगे फौगाट स्कूल के बच्चे| WhiteMirchi

WhiteMirchi TV1 year ago

महर्षि पंकज त्रिपाठी ने दी कोरोना को लेकर सलाह WhiteMirchi

WhiteMirchi TV1 year ago

डीसी मॉडल स्कूल के छात्र हरजीत चंदीला ने किया फरीदाबाद का नाम रोशन | WhiteMirchi

WhiteMirchi TV1 year ago

हरियाणा के बच्चों को मिलेगा दुनिया घूमने का मुफ्त मौका WhiteMirchi

WhiteMirchi TV1 year ago

महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं। WhiteMirchi

WhiteMirchi TV1 year ago

किसी को देखकर अनुमान मत लगाओ! हर लुंगी पहनने वाला गंवार या अनपढ़ नहीं होता!! WhiteMirchi

WhiteMirchi TV1 year ago

संभल कर चलें, जिम्मेदार सो रहे हैं। WhiteMirchi

WhiteMirchi TV1 year ago

शहीद परिवार की हालत जानकर खुद को रोक नहीं सके सतीश फौगाट। WhiteMirchi

लोकप्रिय