Connect with us

वाह ज़िन्दगी

सर्दियों में ऐसे रखें अपने बालों का ख्याल

Published

on

whitemirchi.com

सर्दी का मौसम आते ही बालों का खराब होना एक आम समस्या है| सर्द मौसम के प्रभाव से बालों की चमक खोने लगती है व बाल रूखे हो कर बेजान से नजर आते हैं| इस मौसम में सिर की त्वचा शुष्क होने से पपडीदार हो जाती है, जिससे खारिश भी होने लगती है| लेकिन थोडी सी देखभाल से आप अपने बालों को स्वस्थ, मजबूत और चमकदार बनाए रख सकती हैं।

चिकन, मीट और अण्डे से फायदेमंद मूंगफली

सर्दियों में ठण्ड के कारण रोज़ बाल धोना मुमकिन नहीं हो पाता| इस वजह से सिर पर गन्दगी जमने से स्कैल्प के छिद्र बंद हो जाते हैं और बाल टूटने लगते हैं| इसलिए बालों को साफ़ रखने के लिए हफ्ते में कम से कम दो बार माइल्ड शैम्पू का यूज़ करें ताकि आपके बाल हमेशा साफ़ और स्मूद रहें| सर्दियों के खुश्क मौसम में स्कैल्प ड्राई होने से भी बाल टूटते हैं| इसलिए सर्दियों में बालों को मॉइस्चराइस्ड रखने के लिए तेल लगाना बहुत जरूरी है| इसके अलावा डैंड्रफ की समस्या से बचने के लिए एंटी डैंड्रफ शैम्पू उपयोग करें, लेकिन रोज़ाना एंटी डैंड्रफ शैम्पू का इस्तेमाल हानिकारक हो सकता है|

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

वाह ज़िन्दगी

अगर एड़ी में है दर्द, तो अपनाएं ये तरीका

Published

on

whitemirchi.com

पैरों की एडियों में दर्द हो तो चलना-फिरना भी मुश्किल हो जाता है| ऐसा देर तक खड़े रहने से या ऊंची एड़ी के सैंडल पहनने से होता है| इसे समस्या से छुटकारा पाने के लिए दवाइयों के अलावा घरेलू उपचार भी किया जा सकता है| सिर्फ एक उपाय से इस दर्द से राहत पाई जा सकती है| आइए जानें…

सामग्री
1 पीस नौशादर 1/2 चम्मच एलोवेरा 1/2 चम्मच हल्दी पाऊडर

इस्तेमाल की तरीका

एक बर्तन में एलोवेरा जैल डालकर धीमी आंच पर गर्म करें| इसमें नौशादर और हल्दी डालें| जब यह पानी छोड़ने लगे तो इसे थोड़ा गुनगुना होने पर रूई से जितना सह सकें एडियों पर लगा लें| इसे कपड़े के साथ बांध लें और रात को प्रयोग करें| लगातार 30 दिनों तक इस्तेमाल से आराम मिलेगा|

Continue Reading

वाह ज़िन्दगी

क्या आप जानते हैं लंका जला क्यों पछताए थे हनुमानजी?

Published

on

whitemirchi.com

महर्षि वाल्मीकि द्वारा लिखित रामायण में उल्लेख मिलता है ‘हनुमानजी ने जब रावण की लंका जलाई तो उन्हें बहुत पश्चाताप हुआ, क्योंकि हनुमानजी एकादश रुद्र के अवतार हैं| रावण ने अपने दस सिरों को काटकर महामृत्युंजय की आराधना की थी| लेकिन ग्यारहवां रुद्र हमेशा असंतुष्ट ही रहा और यही रुद्र त्रेता युग में हनुमान के रूप में अवतरित हुआ| दरअसल हनुमानजी का अवतार ही रावण के विनाश के लिए भगवान श्रीराम के सहायक के रूप में हुआ था|

जब हनुमानजी ने रावण की लंका जला दी तो उनका मन कई उलझनों में था| वे अपने किए पर कभी पश्चाताप कर रहे थे| अर्थात सारी लंका जल गई तो निश्चित रूप से जानकी भी उसमें जल गई होंगी| ऐसा करके मैंने निश्चित रूप से अपने स्वामी का बहुत बड़ा अहित कर दिया है| भगवान राम ने तो मुझे लंका इसलिए भेजा था कि मैं सीता का पता लगाकर लौटूंगा, लेकिन मैंने तो यहां कुछ और ही कर दिया| जब सीता ही नहीं रहीं तो राम भला कैसे जी पाएंगे| हनुमान जी यह भी भूल गए कि जिसने थोड़ी देर पूर्व उन्हें अजर-अमर होने का आशीर्वाद दिया था, वे जनकनंदनी भला आग की भेंट कैसे चढ़ सकती हैं? ‘अजर- अमर गुण निधि सुत होहू, करहिं सदा रघुनायक छोहू’ यही वजह थी कि जवालामुखी से घिरे होने के बावजूद हनुमानजी की सेहत पर अग्नि का कोई प्रभाव नहीं था|

हनुमान जी को आग की लपटों में देख, सीता जी ने भगवान शिव से प्रश्न किया किया कि अग्नि का हनुमान जी पर प्रभाव क्यों नही पढ़ रहा? तब भगवान शिव बोले कि हनुमान रुद्र के अवतार हैं|’ताकर दूत अनल जेहि सिरजा, जरा न सो तेहि कारन गिरजा’ रामायण में कथा आती है कि हनुमानजी ने लंका के सभी घर जला दिए लेकिन विभीषण का घर नहीं जलाया|

Continue Reading

वाह ज़िन्दगी

सर्दियों में हाथ-पैरों में सूजन से बचने के उपाय

Published

on

whitemirchi.com

सर्दियों के मौसम में सर्दी के मौसम में अक्सर आपके हाथ पैरों की उंगलियां लाल हो जाती हैं और उनमें सूजन आ जाती है| कई बार ऐसा लगता है कि उंगलियों में कोई तरल पदार्थ भरा हो| ये लक्षण चिलब्लेन्स के हो सकते हैं|चिलब्लेन्स सर्दियों में होने वाली एक आम समस्या है| ये समस्या ज्यादा ठंड में बुजुर्गों, छोटे बच्चों और पानी में काम करने वाले लोगों (महिलाएं और पुरुष) को होती हैं| सूजन के साथ-साथ उंगलियों में खुजली और सुरसुराहट भी महसूस होती है| आइए आपको बताते हैं क्या हैं चिलब्लेन्स और क्या है इसका उपचार|

ज्यादा ठंडे मौसम में अक्सर बाइक चलाने के बाद, पानी में देर तक काम करने के बाद या हाथ-पैर खुले होने पर इनमें सूजन और खुजली शुरू हो जाती है| इस समस्या को चिलब्लेन्स कहते हैं कई बार ये सूजन इतनी खतरनाक होती है कि उंगलियों में घाव हो जाता है और समस्या गंभीर हो जाती है| ऐसे में चिलब्लेन्स से बचाव के लिए आपको कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए और कुछ घरेलू उपायों की मदद लेनी चाहिए|

चिलब्लेन्स के घरेलू उपचार

-सूजन को दूर करने के लिए गर्म पानी में थोड़ा सा सेंधा नमक मिले लें और इस पानी में हाथ और पैर डालकर बैठें|
-जैतून और नारियल तेल को हल्का गर्म कर लें और इससे पैर और हाथों की मसाज करें| ऐसा दिन में दो से तीन बार कर सकते हैं|
-आटे का पेस्ट बनाकर लगाएं और फिर हल्के गुनगुने पानी से धो दें| इससे भी दर्द और लाली में आराम मिलेगा|

Continue Reading
सिटी न्यूज़2 weeks ago

कांग्रेस नेता लखन सिंगला के जन्मदिन पर पहुंचे हजारों

सिटी न्यूज़3 months ago

लूट की वारदात सुलझाने पर लखन सिंगला ने सीपी का जताया आभार

सिटी न्यूज़3 months ago

खेलों से भाईचारे की भावना को मिलता है बढ़ावा : मनधीर मान

खास खबर3 months ago

जो पहले कभी न हुआ भारत ने ऑस्ट्रलिया के साथ किया अब

खास खबर3 months ago

विजय माल्या देश का पहला भगोड़ा, जब्त होगी पूरी संपत्ति

खास खबर3 months ago

दिल्ली-एनसीआर में बारिश लाएगी ठिठुरन

बचल खुचल3 months ago

आखिर सलमान फिल्मों में क्यों नहीं करते किस

वाह ज़िन्दगी3 months ago

अगर एड़ी में है दर्द, तो अपनाएं ये तरीका

सिटी न्यूज़3 months ago

कुंभ जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए तोहफा

वाह ज़िन्दगी3 months ago

क्या आप जानते हैं लंका जला क्यों पछताए थे हनुमानजी?

लोकप्रिय