Connect with us

बक Lol

दुःशासन, दुर्योधन, जरासंध, कंस बना रहे आदमी को दुखी ! – ललित गर्ग-

Published

on

whitemirchi.com||नए वर्ष का स्वागत हम और हमारे निर्माता इस सोच और संकल्प के साथ करें कि हमें कुछ नया करना है, नया बनना है, नये पदचिह्न स्थापित करने हैं। हमें नीतियां ही नहीं नियम भी बदलने है और इसी दिशा में मोदी सरकार जुटी है। नोटबंदी के बाद एक और अच्छी शुरूआत के रूप सरकार ने बेनामी संपत्ति के खिलाफ कानून को ज्यादा धारदार बना दिया है और वह उसे जल्द लागू करने के लिये तत्पर है।
विषमता की स्थितियों को आखिर कैसे मिटायें जबकि घर, समाज एवं देश में छिपी बुराइयां को दूर करने के लिये अपने आंगन में दीया जलाने से पहले ही हम यह सोचने लगें कि इसका प्रकाश तो पड़ोसी के घर-आंगन तक भी पहुंचेगा? ईमानदार प्रयत्नों का सफर कैसे बढ़े आगे जब शुरुआत में ही लगने लगे कि जो काम मैं अब तक नहीं कर सका, भला दूसरों को भी हम कैसे करने दें? प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नोटबंदी के संकल्प और मिशन को असफल बनाने में विपक्ष एवं राजनीतिक दलों ने ऐसा ही तो किया है। भला भ्रष्टाचार एवं कालेधन पर कैसे नियंत्रण होगा?
आज देश  में नकारात्मक सोच वाले लोग ज्यादा है। यही कारण है कि जब भी कोई परिवर्तन की बात होती है, कुछ नया करने का कोई साहस दिखाता है, समस्याओं से मुक्ति के लिये प्रयत्न किये जाते हैं और कोई शंकर बनकर समस्याओं का गरल पीने का प्रयास करता है तो दुःशासन, दुर्योधन, जरासंध, कंस  जैसी शक्तियां अच्छाई को स्थापित नहीं होने देती। इस प्रकार का नकारात्मक दृष्टिकोण आदमी को दुःखी बनाता है और यही कारण है कि सात दशक की आजादी के बावजूद हमारे दुःख आज भी कायम है। शिव अगर विष का पान नहीं करते तो क्या उनको कल्याणकारी अधिष्ठाता की संज्ञा प्राप्त हो पाती? विधायक दृष्टिकोण से ही व्यक्ति मसीहा बन सकता है और स्वस्थ समाज का सृजन कर सकता है। इस समाज एवं देश में जहां-जहां जो शक्तियों सृजन और निर्माण में जुटी हैं, उन्हें हमें प्रोत्साहन देना ही होगा और यही हमारे नये वर्ष का संकल्प होना चाहिए।
भ्रष्टाचार एवं कालेधन के खिलाफ जंग ने अर्थव्यवस्था को साफ-सुथरा करने की ठानी है। हमें नये वर्ष का स्वागत करते हुए ये जंग और ऐसी ही अन्य जंगों के लिये तैयार होना होगा। यह हमारे युग की एक बड़ी सकारात्मक पहल है। जबकि  कुछ स्वार्थी लोग इस जंग में तमाशाई बनकर ईमानदार लोगों को भड़काने की मुहिम में लगे हुए है। हमें ऐसे लोगों से सावधान रहना होगा। एक बात और समझी जानी चाहिए कि स्वतन्त्र भारत के इतिहास का यह सबसे साहसिक  फैसला नरेन्द्र मोदी ने न अपनी पार्टी और न अन्य किसी संगठन या क्षेत्र के लाभ के लिए लिया था। यह फैसला पूरी तरह गैर-राजनीतिक और विशुद्ध रूप से संतुलित एवं समतामूलक समाज निर्माण के संकल्प से जुड़ा है। जो इस मुल्क के ‘गरीबों’ को उनका वाजिब हक दिलाने के लिए लिया गया था। इस फैसले की चपेट में तो कालाधन बनाने वाले सभी लोग एक सिरे से आ रहे थे, चाहे उनकी पार्टी कोई भी हो और उनका मजहब कोई सा भी हो किन्तु श्री मोदी पर चैतरफा हमला इसलिए किया गया कि श्री मोदी यदि यह लड़ाई जीत गये तो विरोधियों की हैसियत न राजनीति में रहेगी और न समाज में। होना भी यही चाहिए। राजनीति के शुद्धिकरण के लिये यह जरूरी है।
एक कल्याणकारी सरकार वही हो सकती है जिसकी नियत एवं नीतियां साफ-सुथरी हो। आजादी के बाद से ही हर सरकार इसकी दुहाई देती रही है। लेकिन ‘नीयत’ में खोट की वजह से ही तो गांवों और गरीबों के पास एक रुपए में से केवल पन्द्रह पैसे ही पहुंच पाते थे और बीच में दलाली खायी जाती रहती थी। इस लम्बे समय से चले आ रहे भ्रष्टाचार को समाप्त करने का बीड़ा किसी को तो उठाना ही था। अगर नरेन्द्र मोदी ने यह  बीड़ा उठाया है तो कुछ राजनीतिक दलों और नेताओं के पेट में दर्द क्यों हो रहा है? अक्सर देखने में आता है कि कुछ व्यक्तियों की मनोवृत्ति दोहरी होती है। वे अपने बारे में सकारात्मक नजरिया रखते हैं और दूसरों के बारे में निषेधात्मक दृष्टि का उपयोग करते हैं। जिन लोगों का दृष्टिकोण विधायक नहीं होता, वे जीवनभर दूसरों की कमियां निकालते रहते हैं। पर जो व्यक्ति विधायक दृष्टिकोण वाले होते हैं, वे अपनी और पराई सभी कमियों को दूर करने का प्रयास करते हैं। ऐसा करने से ही मानव समाज की तस्वीर सुंदर बन सकती है।
विश्व की एक बड़ी कंपनी के मालिक से पूछा गया कि आपकी सफलता का राज क्या है? मालिक ने कहा-‘सकारात्मक दृष्टिकोण।’ वस्तु और व्यक्ति के हर पहलू को देखा जाए तथा सही दिशा चुनी जाए तो सफलता मिलते देर नहीं लगती। परिवार-समाज-देश में छोटी-छोटी बातें होती रहती हैं। उनके प्रति दृष्टिकोण नकारात्मक नहीं होना चाहिए। उन बातों पर चिंतन करें, अपनी कमी का अनुभव करें, अपनी शक्ति का विकास करें, अपने कर्तृत्व से नई रेखाएं खींचें तथा खींचीं हुई लीक से बड़ी लीक खींचने का प्रयास करें। किसी की कही हुई छोटी-सी बात व्यक्ति के सकारात्मक नजरिये एवं सकारात्मक प्रयास से उसको उत्कर्ष प्रदान कर सकती है। व्यक्ति का विश्वास होना चाहिए कि उसकी विकासयात्रा में उसका विधायक दृष्टिकोण ही उसकी गति को सार्थकता प्रदान करेगा।
नये वर्ष का हमारा सबसे बड़ा संकल्प होना चाहिए कि हम शक्ति-सम्पन्न बनेंगे। शक्तिसंपन्न बनने के लिए संतुलित एवं सामुदायिक चेतना का विकास भी बहुत जरूरी है। आज के युग में मनुष्य आत्मकेन्द्रित होता जा रहा है। वह जितना अधिक आत्मकेन्द्रित होगा, उतना ही शक्तिहीनता का अनुभव करेगा। शक्तिसंपन्न बनने के लिए सामुदायिक चेतना जगाने की अपेक्षा है। इस चेतना का जागरण तभी संभव है, जब कठिन काम करने की मनोवृत्ति विकसित हो। कुछ लोग काम करना चाहते हैं, कुछ बनना चाहते हैं, पर पुरुषार्थ करने से घबराते हैं, मुश्किल कामों से कतराते हैं। ईमानदार एवं नैतिक व्यक्ति का निर्माण वर्तमान की सबसे बड़ी जरूरत है और यह एक दीर्घकालीन योजना है। लेकिन हर दौर में और हर युग में इस पर काम करना जरूरी है। एक प्राचीन कहावत है-यदि आप एक वर्ष का लक्ष्य देकर चलते हैं तो फूलों की खेती कर सकते हैं। यदि आपके सामने दस वर्ष का लक्ष्य है तो आप वृक्षों की खेती कर सकते हैं और यदि आपके पास अनंत काल तक काम करने का लक्ष्य है तो आप मनुष्य का निर्माण करने का संकल्प कर सकते हैं। मोदी जैसे लोगों को समाज एवं देश की विसंगतियों एवं विषमताओं को दूर करने के साथ-साथ व्यक्ति निर्माण का भी संकल्प लेना होगा।
नय वर्ष की अगवानी में सबसे कठिन काम है- दिशा-परिवर्तन। दिशा को बदलना बड़ा काम हैं। मोदी सरकार न केवल दिशा बदलने का बल्कि दशा भी बदलने का काम कर ही है। बिडम्बना रही है कि हमारी सरकारों ने दिशा नहीं बदली, दिशा वहीं की वहीं बनी रहती है। आदमी एक ही दिशा में चलते-चलते थक गया, ऊब गया। किन्तु दिशा बदले बिना परिवर्तन घटित नहीं होता और दशा भी नहीं बदलती। एमर्सन का कहा है वे विजय कर सकते हैं, जिन्हें विश्वास है कि वे कर सकते हैं। जीवन की दिशा को बदलना बड़ा काम है। जीवन की दिशा वे ही बदल सकते है जो बदलने की चाहत रखते हैं। यदि जीवन की दिशा बदल जाती है तो सब कुछ बदल जाता है। जीवन की दिशा बदलती है अपने आपको जानने और देखने से। महान् क्रांतिकारी श्री सुभाषचन्द बोस का मार्मिक कथन है कि जिस व्यक्ति के हृदय में संगीत का स्पंदन नहीं है, वह चिंतन और कर्म द्वारा कदापि महान नहीं बन सकता।
वर्तमान सरकार शासन की खामियों को ही दूर नहीं कर रही है बल्कि जीने का नया अन्दाज भी दे रही है। यह वर्तमान की जरूरत भी है। क्योंकि जिन्दगी को एक ढर्रे में नहीं, बल्कि स्वतंत्र पहचान के साथ जीना चाहिए। जब तक जिंदगी है, जिंदादिली के साथ जीना जरूरी है। बिना उत्साह के जिंदगी मौत से पहले मर जाने के समान है। उत्साह और इच्छा व्यक्ति को साधारण से असाधारण की तरफ ले जाती है। जिस तरह सिर्फ एक डिग्री के फर्क से पानी भाप बन जाता है और भाप बड़े-से-बड़े इंजन को खींच सकती है, उसी तरह उत्साह हमारी जिंदगी के लिए काम करता है। इसी उत्साह से व्यक्ति को सकारात्मक जीवन-दृष्टि प्राप्त होती है और ऐसी ही सकारात्मक दृष्टि के लिये श्री मोदी नित-नये अजूबें कर रहे है।
इसलिये एक नये एवं आदर्श जीवन की ओर अग्रसर होने वाले लोगों के लिये महावीर की वाणी है-‘उट्ठिये णो पमायए’ यानी क्षण भर भी प्रमाद न करे। प्रमाद का अर्थ है-नैतिक मूल्यों को नकार देना, अपनांे से पराए हो जाना, सही-गलत को समझने का विवेक न होना। हम कोशिश करें कि ‘जो आज तक नहीं हुआ वह आगे कभी नहीं होगा’ इस बूढ़े तर्क से बचकर नया प्रण जगायें। बिना किसी को मिटाये निर्माण की नई रेखाएं खींचें। यही साहसी सफर शक्ति, समय और श्रम को सार्थकता देगा और इसी से हमारा नया वर्ष शुभ और श्रेयस्कर होगा।

बक Lol

नगर निगम ने फरीदाबाद शहर को बना दिया कूड़े का ढेर – जसवंत पवार

mm

Published

on

वैसे तो फरीदाबाद शहर को अब स्मार्ट सीटी का दर्जा प्राप्त हो चूका है, परन्तु शहर के सड़कों पर गंदगी के ढेर  फरीदाबाद प्रशासन और नगर को आइना दिखा रहे हैं

शहर के अलग अलग मुख्य चौराहों और सड़कों पर पढ़े कूड़े के ढेर को लेकर समाज सेवी जसवंत पवार ने फरीदाबाद प्रशासन और नगर निगम कमिश्नर से पूछा है कि एक तरफ भारत के प्रधानमंत्री माननीय श्री नरेंद्र मोदी जी कहते हैं कि स्वच्छ भारत, स्वस्थ भारत मुहिम को पूरे देश में चला रहे हैं वही नगर निगम इस पर पानी फेरता दिख रहे हैं फरीदाबाद में आज सड़कों पर देखे तो गंदगी के ढेर लगे हुए हैं पूरे शहर को इन्होंने गंदगी का ढेर बना दिया है। जिसके चलते फरीदाबाद शहर अभी तक एक बार भी स्वछता सर्वेक्षण में अपनी कोई अहम् भूमिका अदा नहीं कर पा रहा,  अगर ऐसे ही चलता रहा तो हमारा फरीदाबाद शहर स्वच्छता सर्वे में फिर से फिसड्डी आएगा। साल 2021 में स्वछता सर्वेक्षण 1 मार्च से 28 मार्च तक किया जाना है जिसको लेकर लगता नहीं की जिला प्रसाशन व फरीदाबाद के नेता और मंत्री फरीदाबाद शहर की स्वछता को लेकर बिल्कुल भी चिंतित दिखाई नहीं पढ़ते है।

जसवन्त पंवार ने फरीदाबाद वासियों से अनुरोध और निवेदन किया है अगर हमें अपना शहर स्वच्छ और सुंदर बनाना है तो हम सबको मिलकर प्रयास करने होंगे जहां पर भी गंदगी के ढेर हैं आप वीडियो बनाएं सेल्फी ले फोटो खींचे और नेताओं और प्रशासन तक उसे पहुंचाएं, हमें जागरूक होना होगा तभी जाकर यह फरीदाबाद शहर हमारा स्वच्छ बन पाएगा। आप हमें इस नंबर पर वीडियो और फोटो भेज सकते हैं

Continue Reading

बक Lol

क्यों हर दो महीने में आता है बिजली का बिल?

mm

Published

on


हम सभी अपने कुछ रोजमर्रा में प्रयोग होने वाली चीजों के बिलों का भुगतान हर महीने करते हैं। जैसे बैकों की किश्तंे, घर का किराया इत्यादि। लेकिन क्या आपने कभी इस बात पर गौर फरमाया है कि जब हर चीज का भुगतान हम महीने दर महीने करते हैं। तो बिजली के बिल का ही भुगतान हर दो महीने में क्यों?

इस पर बिजली निगम का कहना है कि बिलिंग प्रक्रिया से जुड़ी एक लागत होती है। जिसमें मीटर रीड़िंग की लागत, कम्प्यूटरीकृत प्रणाली में रीडिंग फीड़ करने की लागत, बिल जेनरेशन की लागत, प्रिंटिग और बिलों को वितरित करने की लागत आदि चीजें शामिल होती हैं। इन लागतों को कम करने के लिए बिलिंग की जाती हैं। इसलिए बिजली बिल 2 महीने में आता है।
फिलहाल बिजली निगम 0-50 यूनिट तक 1.45 रूपये प्रति यूनिट, 51-100 यूनिट तक 2.60 रूपये प्रति यूनिट चार्ज करता है।
आप यह अनुमान लगाइए कि यदि किसी छोटे परिवार की यूनिट 50 से कम आती है। तो उसका चार्ज 1.45 रूपये प्रति यूनिट होगा लेकिन जब बिल दो महीने में जारी होगा। तो उसका 100 यूनिट से उपर बिल आएगा। मतलब साफ है कि उसे प्रति यूनिट चार्ज 2.60 रूपये देना होगा । ऐसे में उस गरीब को सरकार की छूट का लाभ नहीं मिला लेकिन सरकार ने पूरी वाह-वाही लूट ली।
आप यह बताइए जिस घर में सदस्य कम है। तो उस घर की बिजली खपत भी कम होगी और बिल भी कम ही आएगा। मतलब साफ है उपयोग कम तो यूनिट भी कम। यदि बिजली बिल एक महीने में आता है तभी ही तो जनता को इसका लाभ मिलेगा।
लेकिन चूंकि बिल दो महीने में आता है इसलिए गरीब को या छोटे परिवार को महंगी बिजली प्रयोग करनी पड़ रही है।
एक तरफ बिजली निगम अपना फायदा देख रहा है। तो दूसरी तरफ सरकार सस्ती बिजली की घोषणा करके, एक राजनीतिक मुद्द्ा बना कर, जनता की वाह-वाही लूट रही है। लेकिन जनता को लाभ मिल ही नहीं रहा क्योंकि सरकार तो दो महीने में लोगों को बिल दे रही हैं। इसलिए जब महीने में एक बार बिल आएगा तभी आम जनता को लाभ प्राप्त होगा। सरकार कब तक जनता को अपने घोषणाओं के जाल में फंसाती रहेगी? कब जनता को अपनी दी हुई पूंजी का सही लाभ प्राप्त होगा?

Continue Reading

बक Lol

क्यों राहुल गांधी बिना किसी बात के भी फंस जाते हैं?

mm

Published

on


आई ए एस अधिकारी टीना डाबी को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी एक बार फिर सोशल मीडिया में ट्रोल हो गए हैं। खबर बस इतनी है कि दलित समाज से आने वाली टीना मुस्लिम समाज से आने वाले अपने पति अतहर से तलाक ले रहीं हैं।

दिल्ली शहर की रहने वाली 24 वर्षीय टीना डाबी जो 2015 की सिविल परीक्षा में टाॅप करके आई ए एस अधिकारी बनी थी। उन्होंने कश्मीर के मटट्न नामक शहर में रहने वाले अतहर खान से शादी कर ली जो उसी परीक्षा में दूसरे स्थान पर था।
टीना पहली दलित महिला थी जिसने यूपीएससी की परीक्षा में टाॅप किया था।
टीना और अतहर की शादीशुदा जोड़ी को उनके विवाह के दौरान जय भीम और जय मीम की एकता, मुस्लमान और दलितों के बीच में सबधों की मिसाल बताया गया था। उस समय राहुल गांधी ने स्वंय अपने ट्वीटर अकांउट से ट्वीट करते हुए कहा था कि ये जोड़ी मिसाल कायम करेगी। यह हिंदू, मुस्लमानों की एकता का प्रतीक है।
लेकिन आपसी मतभेदों के कारण जयपुर के पारिवारिक न्यायालय में इस जोड़ी ने तलाक की अर्जी दाखिल की है। अब ये जोड़ी तलाक ले रही हैं और लोग राहुल गांधी को लानत दे रहे हैं ‘दिख गई सहजता। दिखा लिया भाईचारा।।‘
आज कांग्रेस की जो हालत है या राहुल गांधी की जो हालत है वो इस वजह से है क्योंकि राहुल ने हर मुद्दे में केवल जाति व धर्म का एंगल खोजा और उसका तुष्टीकरण किया। उन्होंने सर्व समाज से बातें करने में हमेशा परहेज किया। केवल धर्म और जातियों में खास दृष्टिकोण खोजते रहे।
अब तक देखने में आया है कि घटना किसी दलित के साथ हुई है तो वह एक्शन लंेगे और यदि वह दलित कांग्रेस शासित राज्य में है तो एक्शन नहीं लेंगे। उसी प्रकार कोई घटना मुस्लिम के साथ है तो वह आवाज उठाएंगे और यदि वह मुस्लिम अपने शासित राज्य में है तो वो आवाज दबा दंेगे।
इसी कारण से कांग्रेस की हालत यह हो गई है कि लोग उन्हें धर्म और जाति का मुद्दा उठते ही लोग लानत देने लगते हैं।

Continue Reading
खास खबर1 week ago

करोना से हार गए सुरों के बंधु विश्वबंधु

WhiteMirchi TV3 weeks ago

कैसे लिंगायाज विद्यापीठ छात्रों को बेचने लायक बना रही है?

WhiteMirchi TV3 weeks ago

काम ऊर्जा के बारे में लेखक हुकम सिंह दहिया के शब्द

खास खबर1 month ago

लिंग्याज ने बनाया क्रेडिट कार्ड साइज का कंप्यूटर

खास खबर1 month ago

सीटीओ एंजियोप्लास्टी स्टेंटिंग से बाईपास सर्जरी से बचाव संभव : डा. बंसल

सिटी न्यूज़2 months ago

ट्रांसफार्मेशन महारथियों को गुरु द्रोणाचार्य अवार्ड

सिटी न्यूज़2 months ago

अफोर्डेबल एजुकेशन के लिए डॉ सतीश फौगाट सम्मानित

खास खबर3 months ago

सेक्टर 56, 56ए में नागरिकों ने बनाया पुलिस पोस्ट

सिटी न्यूज़3 months ago

पीएसए हरियाणा ने दी डीईओ बनने पर बधाई 

सिटी न्यूज़3 months ago

तिगांव में विकास की गति और तेज होगी- ओमप्रकाश धनखड़

WhiteMirchi TV3 weeks ago

कैसे लिंगायाज विद्यापीठ छात्रों को बेचने लायक बना रही है?

WhiteMirchi TV3 weeks ago

काम ऊर्जा के बारे में लेखक हुकम सिंह दहिया के शब्द

WhiteMirchi TV1 year ago

अपनी छाती न पीटें, मजाक न उड़ाएं…. WhiteMirchi

WhiteMirchi TV1 year ago

लेजर वैली पार्क बना किन्नरों की उगाही का अड्डा WhiteMirchi

WhiteMirchi TV1 year ago

भांकरी फरीदाबाद में विद्यार्थी तेजस्वी तालीम शिविर में भाग लेंगे फौगाट स्कूल के बच्चे| WhiteMirchi

WhiteMirchi TV1 year ago

महर्षि पंकज त्रिपाठी ने दी कोरोना को लेकर सलाह WhiteMirchi

WhiteMirchi TV1 year ago

डीसी मॉडल स्कूल के छात्र हरजीत चंदीला ने किया फरीदाबाद का नाम रोशन | WhiteMirchi

WhiteMirchi TV1 year ago

हरियाणा के बच्चों को मिलेगा दुनिया घूमने का मुफ्त मौका WhiteMirchi

WhiteMirchi TV1 year ago

महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं। WhiteMirchi

WhiteMirchi TV1 year ago

किसी को देखकर अनुमान मत लगाओ! हर लुंगी पहनने वाला गंवार या अनपढ़ नहीं होता!! WhiteMirchi

लोकप्रिय